Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2024 · 1 min read

कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।

कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
देह क्षुधा के दौर में, प्रेम हुआ निर्गंध ।।

सुशील सरना / 4-3-24

1 Like · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
Shweta Soni
रास्तों पर नुकीले पत्थर भी हैं
रास्तों पर नुकीले पत्थर भी हैं
Atul "Krishn"
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
मीठा गान
मीठा गान
rekha mohan
🙅एक शोध🙅
🙅एक शोध🙅
*प्रणय प्रभात*
सीरिया रानी
सीरिया रानी
Dr. Mulla Adam Ali
इश्क में ज़िंदगी
इश्क में ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
Anamika Tiwari 'annpurna '
Maine
Maine "Takdeer" ko,
SPK Sachin Lodhi
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
Paras Nath Jha
मन करता है
मन करता है
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
गए हो तुम जब से जाना
गए हो तुम जब से जाना
The_dk_poetry
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
शेखर सिंह
*चारों और मतलबी लोग है*
*चारों और मतलबी लोग है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
Rj Anand Prajapati
औरत की अभिलाषा
औरत की अभिलाषा
Rachana
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि  ...फेर सेंसर ..
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि ...फेर सेंसर .."पद्
DrLakshman Jha Parimal
Happy new year 2024
Happy new year 2024
Ranjeet kumar patre
*मॉं की गोदी स्वर्ग है, देवलोक-उद्यान (कुंडलिया )*
*मॉं की गोदी स्वर्ग है, देवलोक-उद्यान (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
// तुम सदा खुश रहो //
// तुम सदा खुश रहो //
Shivkumar barman
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक बेटी हूं मैं
एक बेटी हूं मैं
अनिल "आदर्श"
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"लहर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...