Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 13, 2019 · 1 min read

कैसे खेलूं होली

फागुन आया लेकर सखी
फिर से होली का त्योहार।
कैसे खेलूं होली जब बिछुड़ा
है मेरे तन-मन का शृंगार।।

सरहद पर वे खेल गये
दुश्मन संग खूं की होली।
सखी वो लौट घर न आए
बिखेरी मेरे मन की रंगोली।
क्या कहूँ मैं कैसे कह दूँ
मिटा मेरा जीवन संसार।
कैसे खेलूं होली जब बिछुड़ा
है मेरे तन-मन का शृंगार।।

कैसे देखूँ मैं इन रंगों को
सब लगते मुझे तो धूल से।
गुलाल बारूदों जैसी लागे
टेसू भी चुभते हैं शूल से।
होली जलती लगे चिता सी
सब रंग मुझे लगें हैं अंगार।
कैसे खेलूं होली जब बिछुड़ा
है मेरे तन-मन का शृंगार।।

सखी बेरंग हुआ है जीवन
मिटा मेरे मन काअस्तित्व।
चल रहीं ये विवश-सी श्वासें
निभा रही उनके दायित्व।
कुछ भी नहीं रखा जीवन में
मन मेरा गया सखी हार।
कैसे खेलूं होली जब बिछुड़ा
है मेरे तन-मन का शृंगार।।

सुन री सखी ठाना मैंने है
बिटिया को न रुलाऊंगी।
माँ के संग पापा भी बनकर
यह त्योहार मैं मनाऊंगी।
एक पिता बन उसका मैं
दूंगी उसे खुशी का संसार।
कैसे खेलूं होली जब बिछुड़ा
है मेरे तन-मन का शृंगार।।

बूढ़े माता और पिता के
अश्रुओं को रोकूंगी मैं।
बहू से बेटा बन जाऊँगी
रंग न उनके पोंछूंगी मैं।
बहू तो हूँ अब बेटा बन
जीवित रखूंगी उनका प्यार।
खेलूंगी होली उस खातिर
था जो मेरे मन का शृंगार।।

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

153 Views
You may also like:
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
नियति
Vikas Sharma'Shivaaya'
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
डूबता सूरज हूंँ या टूटा हुआ ख्वाब हूंँ मैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
प्यारा तिरंगा
ओनिका सेतिया 'अनु '
अंदाज़।
Taj Mohammad
मरते वक्त उसने।
Taj Mohammad
मेहनत
Arjun Chauhan
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
जीवन और दर्द
Anamika Singh
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
मेरी हस्ती
Anamika Singh
तू सर्दियों की गुनगुनी धूप सा है।
Taj Mohammad
कमी मेरी तेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
✍️क़हर✍️
'अशांत' शेखर
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
✍️I am a Laborer✍️
'अशांत' शेखर
** शरारत **
Dr.Alpa Amin
वो पत्थर
shabina. Naaz
कुछ कहता है सावन
Ram Krishan Rastogi
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
मृत्युलोक में मोक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्दे दिल
Anamika Singh
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
बचपन की यादें।
Anamika Singh
Loading...