Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2019 · 1 min read

कैसे खेलूं होली

फागुन आया लेकर सखी
फिर से होली का त्योहार।
कैसे खेलूं होली जब बिछुड़ा
है मेरे तन-मन का शृंगार।।

सरहद पर वे खेल गये
दुश्मन संग खूं की होली।
सखी वो लौट घर न आए
बिखेरी मेरे मन की रंगोली।
क्या कहूँ मैं कैसे कह दूँ
मिटा मेरा जीवन संसार।
कैसे खेलूं होली जब बिछुड़ा
है मेरे तन-मन का शृंगार।।

कैसे देखूँ मैं इन रंगों को
सब लगते मुझे तो धूल से।
गुलाल बारूदों जैसी लागे
टेसू भी चुभते हैं शूल से।
होली जलती लगे चिता सी
सब रंग मुझे लगें हैं अंगार।
कैसे खेलूं होली जब बिछुड़ा
है मेरे तन-मन का शृंगार।।

सखी बेरंग हुआ है जीवन
मिटा मेरे मन काअस्तित्व।
चल रहीं ये विवश-सी श्वासें
निभा रही उनके दायित्व।
कुछ भी नहीं रखा जीवन में
मन मेरा गया सखी हार।
कैसे खेलूं होली जब बिछुड़ा
है मेरे तन-मन का शृंगार।।

सुन री सखी ठाना मैंने है
बिटिया को न रुलाऊंगी।
माँ के संग पापा भी बनकर
यह त्योहार मैं मनाऊंगी।
एक पिता बन उसका मैं
दूंगी उसे खुशी का संसार।
कैसे खेलूं होली जब बिछुड़ा
है मेरे तन-मन का शृंगार।।

बूढ़े माता और पिता के
अश्रुओं को रोकूंगी मैं।
बहू से बेटा बन जाऊँगी
रंग न उनके पोंछूंगी मैं।
बहू तो हूँ अब बेटा बन
जीवित रखूंगी उनका प्यार।
खेलूंगी होली उस खातिर
था जो मेरे मन का शृंगार।।

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Language: Hindi
275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रोना भी जरूरी है
रोना भी जरूरी है
Surinder blackpen
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
Anand Kumar
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अखंड भारतवर्ष
अखंड भारतवर्ष
Bodhisatva kastooriya
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
शतरंज
शतरंज
भवेश
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
खो कर खुद को,
खो कर खुद को,
Pramila sultan
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
ज्योति
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
3530.🌷 *पूर्णिका*🌷
3530.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
पूर्वार्थ
जय माता दी
जय माता दी
Raju Gajbhiye
*जीवन में मुस्काना सीखो (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जीवन में मुस्काना सीखो (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
आफताब भी ख़ूब जलने लगा है,
आफताब भी ख़ूब जलने लगा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"दास्तान"
Dr. Kishan tandon kranti
*हो न लोकतंत्र की हार*
*हो न लोकतंत्र की हार*
Poonam Matia
आलाप
आलाप
Punam Pande
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
Shweta Soni
गोंडवाना गोटूल
गोंडवाना गोटूल
GOVIND UIKEY
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
चलो प्रिये तुमको मैं संगीत के क्षण ले चलूं....!
चलो प्रिये तुमको मैं संगीत के क्षण ले चलूं....!
singh kunwar sarvendra vikram
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
■ नि:शुल्क सलाह।।😊
■ नि:शुल्क सलाह।।😊
*प्रणय प्रभात*
कितना बदल रहे हैं हम ?
कितना बदल रहे हैं हम ?
Dr fauzia Naseem shad
-- कैसा बुजुर्ग --
-- कैसा बुजुर्ग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
Harminder Kaur
Loading...