Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

कैसे कहूँ किसको कहूँ

कैसे कहूँ किसको कहूँ
कुछ भी समझ में आता नहीं
रंग अलग रूप अलग
किसी से कोई भी मिलता नहीं !!
@ परिमल

85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
कभी ना होना तू निराश, कभी ना होना तू उदास
कभी ना होना तू निराश, कभी ना होना तू उदास
gurudeenverma198
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
वृक्ष पुकार
वृक्ष पुकार
संजय कुमार संजू
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
सत्य कुमार प्रेमी
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2408.पूर्णिका🌹तुम ना बदलोगे🌹
2408.पूर्णिका🌹तुम ना बदलोगे🌹
Dr.Khedu Bharti
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
*.....उन्मुक्त जीवन......
*.....उन्मुक्त जीवन......
Naushaba Suriya
*रोना-धोना छोड़ कर, मुस्काओ हर रोज (कुंडलिया)*
*रोना-धोना छोड़ कर, मुस्काओ हर रोज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
तलाश
तलाश
Vandna Thakur
आत्मा
आत्मा
Bodhisatva kastooriya
देश हमारा
देश हमारा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"रेलगाड़ी सी ज़िन्दगी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शेर
शेर
Dr. Kishan tandon kranti
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
पिता
पिता
Kanchan Khanna
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
रमेशराज के हास्य बालगीत
रमेशराज के हास्य बालगीत
कवि रमेशराज
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
पिटूनिया
पिटूनिया
अनिल मिश्र
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
घनाक्षरी छंद
घनाक्षरी छंद
Rajesh vyas
Loading...