Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2017 · 1 min read

** कैसी ख़ामोशी **

मैं खामोश हूं, पर जुबां बोलती है
जुबां जो कहती है,वह मन की आवाज नहीं है
जुबां खामोश ही तो आँखें बात करती है
खामोश रहकर भी
हम दिल की बात कहते हैं।
फिर कैसी ख़ामोशी ! कैसी चुप्पी ?
मैं न बोलकर भी बोलता हूं
न कहकर भी सब कह जाता हूं
फिर क्यों मुझे ?
ख़ामोशी का इल्ज़ाम दिया
क्या ख़ामोशी में कुछ नहीं छुपा ?
छुपा है ग़मों का राज मगर
चेहरा इंकार करता है
फिर किस तरह मैं खामोश हूं ।।
?मधुप बैरागी

Language: Hindi
1 Like · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
Ravi Prakash
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
Phool gufran
जिस पर हँसी के फूल,कभी बिछ जाते थे
जिस पर हँसी के फूल,कभी बिछ जाते थे
Shweta Soni
जीवन संवाद
जीवन संवाद
Shyam Sundar Subramanian
जब सावन का मौसम आता
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
उस्ताद नहीं होता
उस्ताद नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
" दूरियां"
Pushpraj Anant
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
अंधेरे का डर
अंधेरे का डर
ruby kumari
होली
होली
Dr Archana Gupta
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
मुस्कुराना जरूरी है
मुस्कुराना जरूरी है
Mamta Rani
कलियुग की संतानें
कलियुग की संतानें
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
हे दिल तू मत कर प्यार किसी से
हे दिल तू मत कर प्यार किसी से
gurudeenverma198
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
मकर संक्रांति -
मकर संक्रांति -
Raju Gajbhiye
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
अपने तो अपने होते हैं
अपने तो अपने होते हैं
Harminder Kaur
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
पूर्वार्थ
मुझ को अब स्वीकार नहीं
मुझ को अब स्वीकार नहीं
Surinder blackpen
बातें
बातें
Sanjay ' शून्य'
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
शेखर सिंह
नैया फसी मैया है बीच भवर
नैया फसी मैया है बीच भवर
Basant Bhagawan Roy
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
Mahendra Narayan
3157.*पूर्णिका*
3157.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
खो कर खुद को,
खो कर खुद को,
Pramila sultan
Loading...