Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं

कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं।
गिद्ध नजर जो हम पर डाले बैठे हैं।।

इधर कमाने वाले खप-खप मरते हैं,
पैसे वाले देखो ठाले बैठे हैं।।

खून-पसीना खूब बहाते देखे जो,
उनसे देखो छीन निवाले बैठे हैं।।

नफरत करने वाले दोनों और रहे,
कुछ मस्जिद तो बाकि शिवाले बैठे हैं।।

खेत कमाते मिट्टी में मिट्टी होकर,
सेठ बही में कर्ज निकाले बैठे हैं।।

राशन रहता खत्म हमेशा ही इनका,
घर में भोजन खाने वाले बैठे हैं।।

पैसे का ही खेल तमाशा है जग में,
बिन पैसे सब आंख दिवाले बैठे हैं।।

सिल्ला मरना इतना भी आसान नहीं,
जितना जीवन को संभाले बैठे हैं।।

-विनोद सिल्ला

Language: Hindi
1 Like · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
तुम ऐसे उम्मीद किसी से, कभी नहीं किया करो
तुम ऐसे उम्मीद किसी से, कभी नहीं किया करो
gurudeenverma198
"जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
* भावना में *
* भावना में *
surenderpal vaidya
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
*महाराज श्री अग्रसेन को, सौ-सौ बार प्रणाम है  【गीत】*
*महाराज श्री अग्रसेन को, सौ-सौ बार प्रणाम है 【गीत】*
Ravi Prakash
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
दिल से कह देना कभी किसी और की
दिल से कह देना कभी किसी और की
शेखर सिंह
लहर आजादी की
लहर आजादी की
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
आम्बेडकर ने पहली बार
आम्बेडकर ने पहली बार
Dr MusafiR BaithA
■चंदे का धंधा■
■चंदे का धंधा■
*प्रणय प्रभात*
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
भगवान की पूजा करने से
भगवान की पूजा करने से
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
स्वप्न ....
स्वप्न ....
sushil sarna
कुण्डलिया
कुण्डलिया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
Anil Mishra Prahari
तू याद कर
तू याद कर
Shekhar Chandra Mitra
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रिश्ता
रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
Mahender Singh
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
Falling Out Of Love
Falling Out Of Love
Vedha Singh
15- दोहे
15- दोहे
Ajay Kumar Vimal
दिया है नसीब
दिया है नसीब
Santosh Shrivastava
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...