Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 2 min read

केतकी का अंश

आज अंश
कुछ ज्यादा ही उदास
हो रहा था
अपनी मां केतकी को
द्वार तक छोड़ने भी
नहीं आ रहा था।

केतकी के अतिरेक
पुचकारने के बाद भी
वह आंगन से आगे
टस से मस नहीं हो रहा था।
थक हार कर केतकी
ने ज्यादा समय होते देख
एक फ्लाइंग किस
देते हुए स्वयं को खुद ही
अपने क्रश के लिए
विदा कर लिया था।

रास्ते में अपने भाग्य पर
रोने को विवश थी
यह कैसी विडम्बना थी
अपने बच्चे को अनाथ छोड़
कर दूसरे के बच्चे को
जो पालने चली थी।

अंश की उदास आंखे
से अनवरत आंसू
बह रहे थे
पर वह मासूम एक
मां की मजबूरी को
भी कैसे समझ सके।

नित्य तो वह मां से
दूरी सहन कर ही लेता था
पर आज उसने मां से
अपने जन्मदिन का
वास्ता दिया था
पर मां कि विवशता ने
उसे भी मौन कर दिया था।
इतनी मुश्किल से मिली
मां की क्रश की नौकरी
कहीं छूट न जाय
ऐसा समझ उसने मां से
मौन विदा लिया था।

शायद अंश को
पता था कि जन्मदिन
के चोचले बस अमीरों
के घर की सम्पदा है
उन जैसो के भाग्य में तो
बस मुफलिसी ही वदा है।

क्रश में आज सारांश
के मां बापू ने
उसके जन्मदिन पर एक
पार्टी का आयोजन रखा था
केतकी के बेहतर
व्यवहार के लिए उन्होंने
उसे भी एक उपहार दिया था।

पर अपने अंश कि उपेक्षा
व दूसरे की देखभाल
करते केतकी का तन
आज एकदम थक चला था
क्रश का काम था कि आज
समाप्त होने के नाम ही
नहीं ले रहा था।

और दिनों के अपेक्षा
केतकी को आज
कुछ ज्यादा ही देर हो गयी
अंश के लिए बिस्कुट व
एक नए बनियान के चक्कर में
वह और लेट हो गयी ।

घर जाने की शीघ्रता में
उसका कलेजा उछलने लगा था
पर घर पहुंचते ही
अंश को आँगन में पड़ा देख
उसका जी धक् से हो गया था।

आज के जीवन का
यह एक सनातन सत्य है
टूटते परिवार व
छीजते रिश्तों के कारण
वर्तमान भविष्य से
भयभीत है।

आज जीवन जिया नहीं
जा रहा है
बल्कि किसी तरह काटा
व निभाया जा रहा है।
निर्मेष
क्षद्म हंसी को मुखौटा लिये
सब फिर रहे है
अंदर के घाव से रक्त
अनवरत रिस रहे है।

निर्मेष

294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh
*होली: कुछ दोहे*
*होली: कुछ दोहे*
Ravi Prakash
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
आनंद प्रवीण
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
// स्वर सम्राट मुकेश जन्म शती वर्ष //
// स्वर सम्राट मुकेश जन्म शती वर्ष //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फ़ब्तियां
फ़ब्तियां
Shivkumar Bilagrami
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
It is that time in one's life,
It is that time in one's life,
पूर्वार्थ
अधर्म का उत्पात
अधर्म का उत्पात
Dr. Harvinder Singh Bakshi
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
पल पल का अस्तित्व
पल पल का अस्तित्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
!! कुछ दिन और !!
!! कुछ दिन और !!
Chunnu Lal Gupta
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
मचलते  है  जब   दिल  फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
मचलते है जब दिल फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
डी. के. निवातिया
मय है मीना है साकी नहीं है।
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कविता तुम से
कविता तुम से
Awadhesh Singh
भरे मन भाव अति पावन....
भरे मन भाव अति पावन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
खत पढ़कर तू अपने वतन का
खत पढ़कर तू अपने वतन का
gurudeenverma198
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
Shakil Alam
*शीत वसंत*
*शीत वसंत*
Nishant prakhar
2556.पूर्णिका
2556.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
shabina. Naaz
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
Dr Shweta sood
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
"कैसा जमाना आया?"
Dr. Kishan tandon kranti
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
Loading...