Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2022 · 1 min read

कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार

प्रकटे जन कल्याण को, गौरी पुत्र गणेश
धन्य हुए तिहुं लोक यूँ, भोलेनाथ महेश

श्रीगणेश शुभ कार्य का, है आपसे विशेष
विघ्न हरे मंगल करे, मंगल मूर्ति गणेश

कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
मंगलतिथि यह अवतरण, है शिवपुराणुसार

•••

__________________
*चित्रकार: सोबन सिंह

Language: Hindi
1 Like · 339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
2260.
2260.
Dr.Khedu Bharti
आज हम याद करते
आज हम याद करते
अनिल अहिरवार
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*शहर की जिंदगी*
*शहर की जिंदगी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परीक्षा
परीक्षा
Er. Sanjay Shrivastava
** मन मिलन **
** मन मिलन **
surenderpal vaidya
*राजनीति का अर्थ तंत्र में, अब घुसपैठ दलाली है 【मुक्तक】*
*राजनीति का अर्थ तंत्र में, अब घुसपैठ दलाली है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
पूर्वार्थ
दुश्मन को दहला न सके जो              खून   नहीं    वह   पानी
दुश्मन को दहला न सके जो खून नहीं वह पानी
Anil Mishra Prahari
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
DrLakshman Jha Parimal
श्राद्ध
श्राद्ध
Mukesh Kumar Sonkar
देर आए दुरुस्त आए...
देर आए दुरुस्त आए...
Harminder Kaur
होली
होली
लक्ष्मी सिंह
भटक रहे अज्ञान में,
भटक रहे अज्ञान में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
"जब"
Dr. Kishan tandon kranti
An Evening
An Evening
goutam shaw
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"चिराग"
Ekta chitrangini
ऋतुराज
ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त  - शंका
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त - शंका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
shabina. Naaz
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
#आज_का_मुक्तक
#आज_का_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
Loading...