Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2024 · 1 min read

कुलदीप बनो तुम

सुन लो सुन लो जरा ऐ मेरे दोस्तों,
जिंदगी को सजा लो सदाचार से ।

वीर बनो तुम धीर बनो तुम,
उदधि जैसे मन से गंभीर बनो तुम ।

पर्वत जैसे तुम भी ऊंचाई ले आओ,
अनंत आकाश की परछाईं ले आओ।

नदी, वृक्ष जैसे परोपकारी बनो तुम,
मन में रख दया का भाव आज्ञाकारी बनो तुम।

मात- पिता के श्रवनकुमार बनो ,
गोविंद से भी गुरु का सम्मान करो तुम।

एक ऐसी प्रज्वल्यमान दीप बनो तुम,
कृपासिंधु, पुरुषोत्तम ,कुलदीप बनो तुम।

अनामिका तिवारी” अन्नपूर्णा “✍️✍️

Language: Hindi
1 Like · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यारा बंधन प्रेम का
प्यारा बंधन प्रेम का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
जय लगन कुमार हैप्पी
जिससे एक मर्तबा प्रेम हो जाए
जिससे एक मर्तबा प्रेम हो जाए
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"वट वृक्ष है पिता"
Ekta chitrangini
एकांत
एकांत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2776. *पूर्णिका*
2776. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्वभाव मधुर होना चाहिए, मीठी तो कोयल भी बोलती है।।
स्वभाव मधुर होना चाहिए, मीठी तो कोयल भी बोलती है।।
Lokesh Sharma
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
Neeraj Agarwal
ज़िंदगी मो'तबर
ज़िंदगी मो'तबर
Dr fauzia Naseem shad
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
कीमत क्या है पैमाना बता रहा है,
कीमत क्या है पैमाना बता रहा है,
Vindhya Prakash Mishra
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Hard work is most important in your dream way
Hard work is most important in your dream way
Neeleshkumar Gupt
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
manjula chauhan
*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*
*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"तकरार"
Dr. Kishan tandon kranti
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
विजय द्वार (कविता)
विजय द्वार (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
Dear myself,
Dear myself,
पूर्वार्थ
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
राम जैसा मनोभाव
राम जैसा मनोभाव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
* हाथ मलने लगा *
* हाथ मलने लगा *
surenderpal vaidya
#इस_साल
#इस_साल
*प्रणय प्रभात*
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
शेखर सिंह
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
Loading...