Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

कुर्सी

अपनी -अपनी कुर्सी से चिपके रहो प्यारे!
जिनका मर चुका हो ज़मीर,उन्हे कौन मारे?
जनता तो है मरने के लिए,कभी आतंकवाद,
कभी मँहगाई,और कभी प्रशासन के मारे!!
अपनी -अपनी कुर्सी से….चिपके रहो प्यारे!!

पाच साल के लिए मिल गई हो कुर्सी जिन्है,
उन्है चाह कर भी कौन-कैसे गद्दी से उतारे?
जनता को गृहस्थी चलाने को बेलने है पापड.
बेटे की फीस,ट्यूशन,रसोई सभी पडी उधारे!!
अपनी -अपनी कुर्सी से..चिपके रहो प्यारे!!

समझ नही आता फिर भी कैसे करते है लोग?
पैट्रोल से कुल्ला और दारु के सुबह शाम गरारे!
हा बेशक उनके घर दो वक्त चूल्हा ना ही जले,
क्योकि उनके लिए जिन्दगी,मौज मस्ती है प्यारे!!
अपनी -अपनी कुर्सी से…..चिपके रहो प्यारे!!

बीबी करती है झिक-झिक तेल हो गया डेढ सौ,
पकौडी तलनै को कहते हो,सब्जी झौकने से हारे!
बच्चौ को खाना खिलाए या फिर पढाए-लिखाए?
गरीब,मध्यम सभी को दिन मे भी नज़र आए तारे!!
अपनी -अपनी कुर्सी से …….चिपके रहो प्यारे!!

|बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202 नीरव निकुजं सिकंदरा ,आगरा-282007
मो:9412443093

Language: Hindi
46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
" मेरे प्यारे बच्चे "
Dr Meenu Poonia
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*
*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
3412⚘ *पूर्णिका* ⚘
3412⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
Bhupendra Rawat
गंगा मैया
गंगा मैया
Kumud Srivastava
व्यथा दिल की
व्यथा दिल की
Devesh Bharadwaj
आज भी
आज भी
Dr fauzia Naseem shad
मेरे तात !
मेरे तात !
Akash Yadav
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
Satish Srijan
लेखनी
लेखनी
Prakash Chandra
सत्ता में वापसी के बाद
सत्ता में वापसी के बाद
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
কুয়াশার কাছে শিখেছি
কুয়াশার কাছে শিখেছি
Sakhawat Jisan
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बल से दुश्मन को मिटाने
बल से दुश्मन को मिटाने
Anil Mishra Prahari
🙏
🙏
Neelam Sharma
कर्जा
कर्जा
RAKESH RAKESH
जवानी
जवानी
Pratibha Pandey
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
शेखर सिंह
खाने पुराने
खाने पुराने
Sanjay ' शून्य'
"दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
ये ज़िंदगी
ये ज़िंदगी
Shyam Sundar Subramanian
शुभ हो अक्षय तृतीया सभी को, मंगल सबका हो जाए
शुभ हो अक्षय तृतीया सभी को, मंगल सबका हो जाए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं मगर अपनी जिंदगी को, ऐसे जीता रहा
मैं मगर अपनी जिंदगी को, ऐसे जीता रहा
gurudeenverma198
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...