Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2022 · 1 min read

*कुर्सी* 【कुंडलिया】

कुर्सी 【कुंडलिया】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रहती कुर्सी कब सदा , कुर्सी के दिन चार
आता जब दिन पाँचवा , होता बंटाधार
होता बंटाधार , हाय औंधे मुँह गिरते
पैदल हो लाचार , अंगरक्षक – बिन फिरते
कहते रवि कविराय,काल-गति यह ही कहती
किसी एक के पास , सदा कुर्सी कब रहती
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर ( उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
भर लो नयनों में नीर
भर लो नयनों में नीर
Arti Bhadauria
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
शायरी
शायरी
Sandeep Thakur
"सार"
Dr. Kishan tandon kranti
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
यूँ  भी  हल्के  हों  मियाँ बोझ हमारे  दिल के
यूँ भी हल्के हों मियाँ बोझ हमारे दिल के
Sarfaraz Ahmed Aasee
3195.*पूर्णिका*
3195.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
कुछ लिखूँ.....!!!
कुछ लिखूँ.....!!!
Kanchan Khanna
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लहर लहर लहराना है
लहर लहर लहराना है
Madhuri mahakash
*समझौता*
*समझौता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सार्थक मंथन
सार्थक मंथन
Shyam Sundar Subramanian
Dr Arun Kumar shastri एक अबोध बालक
Dr Arun Kumar shastri एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अति-उताक्ली नई पीढ़ी
अति-उताक्ली नई पीढ़ी
*प्रणय प्रभात*
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
ज्योति
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
आपसा हम जो
आपसा हम जो
Dr fauzia Naseem shad
मौसम मौसम बदल गया
मौसम मौसम बदल गया
The_dk_poetry
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पूछ रही हूं
पूछ रही हूं
Srishty Bansal
Loading...