Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

कुत्ते / MUSAFIR BAITHA

कुत्ते
यदि पालतू नहीं हैं
नस्ल विशेष के नहीं हैं
तो हिंसक नहीं होते
काट नहीं खाते
मालिकों के आगे वे
दुमहिलाऊ होते हैं
शीशनवाऊ होते हैं
अनजानों को देख स्वामिभक्ति में
करते झाऊँ झाऊँ होते हैं
आवारा हो या पालतू
पागल कुत्ते ही
काट खाने के स्वभाव पर होते हैं
मौलिक कुत्त-स्वभाव पर नहीं होते वे!
कुत्ता होना
स्वामिभक्त होकर भी गाली हो गया
भक्ति बेईमान होती है
विभीषण भी राम का सारथी होकर भक्तों की बेईमानी का शिकार बना।
सायलेंट किलर :
बेटा होने पर थाली बजती थी।
कोरोना-प्रकोप पर थाली बज रही है।
थाली बजाने का संस्कार हिन्दू है, मर्दाना है।
इस आयातित मर्दाना संस्कार को प्रक्षिप्त कर साहब ने कोरोना पर ठोंका है।
मगर, भारतीय (हिन्दू) संस्कृति में अपने जन्म के समय
थाली बजना पाने से वंचित बेटियाँ भी थाली पीट गयी हैं।
ऐसे ही फैलता है जहर, और, सहज ही पीते जाते हैं हम जहर!

Language: Hindi
363 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
कजरी
कजरी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
*कृष्ण की दीवानी*
*कृष्ण की दीवानी*
Shashi kala vyas
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अहमियत 🌹🙏
अहमियत 🌹🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पिनाक धनु को तोड़ कर,
पिनाक धनु को तोड़ कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ख़्वाब टूटा
ख़्वाब टूटा
Dr fauzia Naseem shad
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
डा गजैसिह कर्दम
किसान
किसान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
Dr MusafiR BaithA
गांव
गांव
Bodhisatva kastooriya
"चोट"
Dr. Kishan tandon kranti
*ऐलान – ए – इश्क *
*ऐलान – ए – इश्क *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
झूठ
झूठ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बच्चों के पिता
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सपनों में खो जाते अक्सर
सपनों में खो जाते अक्सर
Dr Archana Gupta
यकीं के बाम पे ...
यकीं के बाम पे ...
sushil sarna
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
काला दिन
काला दिन
Shyam Sundar Subramanian
ज़हर क्यों पी लिया
ज़हर क्यों पी लिया
Surinder blackpen
You lived through it, you learned from it, now it's time to
You lived through it, you learned from it, now it's time to
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
2413.पूर्णिका
2413.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
करने दो इजहार मुझे भी
करने दो इजहार मुझे भी
gurudeenverma198
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कितना प्यार करता हू
कितना प्यार करता हू
Basant Bhagawan Roy
एक उजली सी सांझ वो ढलती हुई
एक उजली सी सांझ वो ढलती हुई
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...