Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

* कुण्डलिया *

* कुण्डलिया *
बढता हरपल जा रहा, सघन धुंध का जोर।
सर्द ऋतु की भोर में, इधर उधर हर ओर।
इधर उधर हर ओर, शांत माहौल बना है।
घर में दुबके लोग, निकलना स्वयं मना है।
कहते वैद्य सुरेन्द्र, सहन करना सब पड़ता।
हुए सभी मजबूर, ताव सर्दी का बढ़ता।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०७/०१/२०२४

1 Like · 1 Comment · 139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
""बहुत दिनों से दूर थे तुमसे _
Rajesh vyas
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
Sandeep Mishra
"एक विचार को प्रचार-प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है
शेखर सिंह
ग़म-ए-दिल....
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
*जीवन के गान*
*जीवन के गान*
Mukta Rashmi
जन्म-जन्म का साथ.....
जन्म-जन्म का साथ.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
किसी मूर्ख को
किसी मूर्ख को
*Author प्रणय प्रभात*
2520.पूर्णिका
2520.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
ट्यूशन उद्योग
ट्यूशन उद्योग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
*क्रोध की गाज*
*क्रोध की गाज*
Buddha Prakash
जीवन में दिन चार मिलें है,
जीवन में दिन चार मिलें है,
Satish Srijan
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
अधखिली यह कली
अधखिली यह कली
gurudeenverma198
.
.
Amulyaa Ratan
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
Dr fauzia Naseem shad
सर्वश्रेष्ठ गीत - जीवन के उस पार मिलेंगे
सर्वश्रेष्ठ गीत - जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
कठिन परीक्षा
कठिन परीक्षा
surenderpal vaidya
डर से अपराधी नहीं,
डर से अपराधी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
Writer_ermkumar
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
आई दिवाली कोरोना में
आई दिवाली कोरोना में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
Sandeep Kumar
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
VINOD CHAUHAN
Loading...