Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कुण्डलियाँ

अपनी अपनी अहमियत, सूई या तलवार ।
उपयोगी हैं भूख में, केवल रोटी चार ॥
केवल रोटी चार, नहीं खा सकते सोना ।
सूई का कुछ काम, न तलवारों से होना ।
‘ठकुरेला’ कविराय, सभी की माला जपनी ।
बड़ा हो कि लघुरूप, अहमियत सबकी अपनी ॥

सोना तपता आग में, और निखरता रूप।
कभी न रुकते साहसी, छाया हो या धूप॥
छाया हो या धूप, बहुत सी बाधा आयें।
कभी न बनें अधीर, नहीं मन में घबरायें।
‘ठकुरेला’ कविराय, दुखों से कैसा रोना।
निखरे सहकर कष्ट, आदमी हो या सोना॥

— त्रिलोक सिंह ठकुरेला

2 Likes · 4 Comments · 351 Views
You may also like:
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
साथ तुम्हारा
Rashmi Sanjay
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
यही है मेरा ख्वाब मेरी मंजिल
gurudeenverma198
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
प्रेम की किताब
DESH RAJ
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
दर्द का
Dr fauzia Naseem shad
✍️जेरो-ओ-जबर हो गये✍️
"अशांत" शेखर
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जीने का नजरिया अंदर चाहिए।
Taj Mohammad
मन की वेदना....
Dr. Alpa H. Amin
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
✍️तर्क✍️
"अशांत" शेखर
हाय रे ये क्या हुआ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाबू जी
Anoop Sonsi
कशमकश
Anamika Singh
✍️खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब✍️
"अशांत" शेखर
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
Love Heart
Buddha Prakash
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H. Amin
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शायद...
Dr. Alpa H. Amin
Loading...