Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

कुण्डलियाँ

अपनी अपनी अहमियत, सूई या तलवार ।
उपयोगी हैं भूख में, केवल रोटी चार ॥
केवल रोटी चार, नहीं खा सकते सोना ।
सूई का कुछ काम, न तलवारों से होना ।
‘ठकुरेला’ कविराय, सभी की माला जपनी ।
बड़ा हो कि लघुरूप, अहमियत सबकी अपनी ॥

सोना तपता आग में, और निखरता रूप।
कभी न रुकते साहसी, छाया हो या धूप॥
छाया हो या धूप, बहुत सी बाधा आयें।
कभी न बनें अधीर, नहीं मन में घबरायें।
‘ठकुरेला’ कविराय, दुखों से कैसा रोना।
निखरे सहकर कष्ट, आदमी हो या सोना॥

— त्रिलोक सिंह ठकुरेला

2 Likes · 4 Comments · 410 Views
You may also like:
शायर का फ़र्ज़
Shekhar Chandra Mitra
आओगे मेरे द्वार कभी
Kavita Chouhan
*छतरी ने कमाल दिखलाया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
अंतर्मन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
इस कहानी को नया इक मोड़ दूँ क्या
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
सियासत की बातें
Dr. Sunita Singh
शम्मा ए इश्क़।
Taj Mohammad
बेटी....
Chandra Prakash Patel
पोहा पर हूँ लिख रहा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
साहिल की रेत
Kaur Surinder
'रावण'
Godambari Negi
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
कैसे कितने चेहरे बदलकर
gurudeenverma198
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
उदासीनता
ओनिका सेतिया 'अनु '
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
बोझ
आकांक्षा राय
मंज़िल
Ray's Gupta
"ऐनक मित्र"
Dr Meenu Poonia
आईना
Buddha Prakash
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
लिखे आज तक
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
✍️नजरअंदाज✍️
'अशांत' शेखर
Loading...