Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2022 · 1 min read

कुज्रा-कुजर्नी ( #लोकमैथिली_हाइकु)

१.
‘साग लेब हौ’
टोलेटोल गिदह
करै कुजर्नी ।
२.
मथा ऊपर
ढकिया तरकारी
टोलमे बेचै ।
३.
ढकिया भारी
दोब्बरमे बेचैछ
पटुवा साग ।
४.
मौरसा साग
गामेगाम बेचैछ
धान तौलैछ ।
५.
कोशिया दही
छहेछह बेचैछ
दहियारबा’ ।
६.
माटिक डब्बा
ढकियामे भैरके
बेचै कुम्हार ।
७.
किलोल करै
साग दोब्बर-बर्बैर
डेढीपे कुज्रा ।

~~~●~~~●~~~●

#दिनेश_यादव (2079/06/27) ।। तस्बिर : सामाजिक_ संजाल

Language: Maithili
1 Like · 246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी भी इंसान के
किसी भी इंसान के
*Author प्रणय प्रभात*
तेरा - मेरा
तेरा - मेरा
Ramswaroop Dinkar
ठगी
ठगी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
DrLakshman Jha Parimal
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-416💐
💐प्रेम कौतुक-416💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
*फँसे मँझधार में नौका, प्रभो अवतार बन जाना 【हिंदी गजल/ गीतिक
*फँसे मँझधार में नौका, प्रभो अवतार बन जाना 【हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
जीवन में सुख-चैन के,
जीवन में सुख-चैन के,
sushil sarna
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
मैं जिंदगी हूं।
मैं जिंदगी हूं।
Taj Mohammad
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
Anand Kumar
मेरे पापा
मेरे पापा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दस्ताने
दस्ताने
Seema gupta,Alwar
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
shabina. Naaz
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
Vishal babu (vishu)
दुश्मन कहां है?
दुश्मन कहां है?
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Yesterday ? Night
Yesterday ? Night
Otteri Selvakumar
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
Today i am thinker
Today i am thinker
Ms.Ankit Halke jha
2282.पूर्णिका
2282.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सपनों का अन्त
सपनों का अन्त
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...