Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 1 min read

कुछ शेर मुहोबत के नाम

कुछ शेर मुहोबत के नाम

१, क्या लुत्फ़ हो उस मौत का जिसे दुनिया देखे,
मुहोबत की राह में जो इस तरह कुर्बान हो गयाें।

२, नज़रें तुम्हें ढूंढती है .जुबां तुम्हारा नाम लेती है,
जब न कोई सहारा उसे मौत ढूंढने लगती हैें।

३, तुम ना रूठो की रूठ जाएँगी हमसे बहारें,
तुम पास होते तो हमें मौत का भी दर नहीं।

४, मुहोबत में कभी यह दिन भी जिंदगी में आये,
जिधर देखा नज़रों ने उधर पाया तुझेें।

Language: Hindi
Tag: शेर
218 Views

Books from ओनिका सेतिया 'अनु '

You may also like:
शौक मर गए सब !
शौक मर गए सब !
ओनिका सेतिया 'अनु '
यूं ही नहीं इंजीनियर कहलाते हैं
यूं ही नहीं इंजीनियर कहलाते हैं
kumar Deepak "Mani"
ऊपरी इनकम पर आनलाईन के दुष्प्रभाव(व्यंग )
ऊपरी इनकम पर आनलाईन के दुष्प्रभाव(व्यंग )
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सामंत वादियों ने बिछा रखा जाल है।
सामंत वादियों ने बिछा रखा जाल है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सिलसिला ए इश्क
सिलसिला ए इश्क
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
अहंकार और आत्मगौरव
अहंकार और आत्मगौरव
अमित कुमार
■ एक मुक्तक...
■ एक मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
किसी को नीचा दिखाना , किसी पर हावी होना ,  किसी को नुकसान पह
किसी को नीचा दिखाना , किसी पर हावी होना ,...
Seema Verma
काश अगर तुम हमें समझ पाते
काश अगर तुम हमें समझ पाते
Writer_ermkumar
बन गई पाठशाला
बन गई पाठशाला
rekha mohan
*धूप में रक्त मेरा*
*धूप में रक्त मेरा*
सूर्यकांत द्विवेदी
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
तब घर याद आता है
तब घर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-359💐
💐प्रेम कौतुक-359💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हे, मनुज अब तो कुछ बोल,
हे, मनुज अब तो कुछ बोल,
डी. के. निवातिया
तानाशाहों का हश्र
तानाशाहों का हश्र
Shekhar Chandra Mitra
सौ बात की एक
सौ बात की एक
Dr.sima
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी...
Ravi Prakash
मेरी आंखों में ख़्वाब
मेरी आंखों में ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी
हिंदी
Vandana Namdev
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अहीर छंद (अभीर छंद)
अहीर छंद (अभीर छंद)
Subhash Singhai
तुम इतना सिला देना।
तुम इतना सिला देना।
Taj Mohammad
सरस्वती आरती
सरस्वती आरती
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बेटी
बेटी
Sushil chauhan
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मर्द को दर्द नहीं होता है
मर्द को दर्द नहीं होता है
Shyam Sundar Subramanian
बुंदेली_दोहा बिषय- गरी (#शनारियल)
बुंदेली_दोहा बिषय- गरी (#शनारियल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Sishe ke makan ko , ghar banane ham chale ,
Sishe ke makan ko , ghar banane ham chale ,
Sakshi Tripathi
सर्द चांदनी रात
सर्द चांदनी रात
Shriyansh Gupta
Loading...