Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2024 · 1 min read

कुछ लोग

कुछ लोग
दरख्त का
साया होते हैं
एक सफ़र
को पड़ाव,
एक थकान
को विश्राम
देते हैं,
कुछ लोग
पानी का
झील होते हैं
किनारे पर बैठकर
जिन्हें देखना
सुकून देता है।

63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम आंखें बंद कर लेना....!
तुम आंखें बंद कर लेना....!
VEDANTA PATEL
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
औरों की तरह हर्फ़ नहीं हैं अपना;
औरों की तरह हर्फ़ नहीं हैं अपना;
manjula chauhan
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अद्भुद भारत देश
अद्भुद भारत देश
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
Buddha Prakash
निदामत का एक आँसू ......
निदामत का एक आँसू ......
shabina. Naaz
नरम दिली बनाम कठोरता
नरम दिली बनाम कठोरता
Karishma Shah
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
कवि रमेशराज
3278.*पूर्णिका*
3278.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
Dr MusafiR BaithA
संस्कार
संस्कार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
औरों के संग
औरों के संग
Punam Pande
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
*रामराज्य में सब सुखी, सबके धन-भंडार (कुछ दोहे)*
*रामराज्य में सब सुखी, सबके धन-भंडार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
आज यादों की अलमारी खोली
आज यादों की अलमारी खोली
Rituraj shivem verma
ये दुनिया घूम कर देखी
ये दुनिया घूम कर देखी
Phool gufran
■ चिंतन का निष्कर्ष
■ चिंतन का निष्कर्ष
*प्रणय प्रभात*
मैं निकल पड़ी हूँ
मैं निकल पड़ी हूँ
Vaishaligoel
// अंधविश्वास //
// अंधविश्वास //
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भारत की देख शक्ति, दुश्मन भी अब घबराते है।
भारत की देख शक्ति, दुश्मन भी अब घबराते है।
Anil chobisa
फितरत न कभी सीखा
फितरत न कभी सीखा
Satish Srijan
रिश्ता ख़ामोशियों का
रिश्ता ख़ामोशियों का
Dr fauzia Naseem shad
"बदलते रसरंग"
Dr. Kishan tandon kranti
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...