Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं /लवकुश यादव “अज़ल”

पुरानी यादों के समंदर जैसे यहाँ बसेरे हैं,
कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं।
उलझती शाम तेरी होगी महबूब के मक़तूबतों में,
तुम्हारे घर रौशन हुए तो हमारे घर उजाले हैं।।

हम थोड़ा ज़िद्दी हैं और शहर के उजाले हैं,
किस्मत से कुछ भी नही हुआ है हमें हासिल।
माँ बाप और कुछ खास दोस्तों के लाडले हैं,
कुछ लोग तुम्हें प्यारे हैं और कुछ लोग हमें प्यारे हैं।।

सहमति रख लो अज़ी हम गैर ही सही हैं,
फ़लक से धरा तक हम सबसे निराले हैं।
जब कलम उठाई तो गीत लिखे हमने ऐसे,
और लोगों ने कहा ये दिल के बादशाह हैं।।

टूटी कश्तियाँ तो हम खुद के सहारे हैं,
जम्मू की धरा पर खिल उठते जैसे शरारे हैं।
रात ओझल सी परछाई में महकते गुलाब,
कैसे कहें की तुम हमारे और हम तुम्हारे हैं।।

प्रहार करते नहीं हैं किसी पर बेवजह के अज़ल,
क्योंकि जो तुम्हारे मुँह पर तुम्हारे हमारे मुँह हमारे हैं।
पुरानी यादों के समंदर जैसे यहाँ बसेरे हैं,
कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं।।

लवकुश यादव “अज़ल”
अमेठी, उत्तर प्रदेश

4 Likes · 475 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी तूने  ख्वाब दिखाकर
जिंदगी तूने ख्वाब दिखाकर
goutam shaw
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
जहां हिमालय पर्वत है
जहां हिमालय पर्वत है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
💐प्रेम कौतुक-552💐
💐प्रेम कौतुक-552💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
Ravi Prakash
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
पूर्वार्थ
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
gurudeenverma198
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सिंह सोया हो या जागा हो,
सिंह सोया हो या जागा हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
" ब्रह्माण्ड की चेतना "
Dr Meenu Poonia
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तलाशती रहती हैं
तलाशती रहती हैं
हिमांशु Kulshrestha
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
Anil chobisa
मुश्किल है बहुत
मुश्किल है बहुत
Dr fauzia Naseem shad
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
3152.*पूर्णिका*
3152.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
😊😊😊
😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
"तापमान"
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम्हें लिखना आसान है
तुम्हें लिखना आसान है
Manoj Mahato
ना समझ आया
ना समझ आया
Dinesh Kumar Gangwar
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर चेहरा है खूबसूरत
हर चेहरा है खूबसूरत
Surinder blackpen
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
Loading...