Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने

कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
कुछ लोग परेशान हैं के आज सोयेंगे कहाँ…..
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

1 Like · 480 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
Ravi Prakash
मेरा स्वप्नलोक
मेरा स्वप्नलोक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
तैराक हम गहरे पानी के,
तैराक हम गहरे पानी के,
Aruna Dogra Sharma
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
फार्मूला
फार्मूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारी शक्ति..................
नारी शक्ति..................
Surya Barman
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
उजले दिन के बाद काली रात आती है
उजले दिन के बाद काली रात आती है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
2720.*पूर्णिका*
2720.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज बेरोजगारों की पहली सफ़ में बैठे हैं
आज बेरोजगारों की पहली सफ़ में बैठे हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
दीवाने प्यार के हम तुम _ छोड़े है दुनियां के भी  गम।
दीवाने प्यार के हम तुम _ छोड़े है दुनियां के भी गम।
Rajesh vyas
* खूब कीजिए प्यार *
* खूब कीजिए प्यार *
surenderpal vaidya
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
यदि सफलता चाहते हो तो सफल लोगों के दिखाए और बताए रास्ते पर च
यदि सफलता चाहते हो तो सफल लोगों के दिखाए और बताए रास्ते पर च
dks.lhp
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
मैं कितनी नादान थी
मैं कितनी नादान थी
Shekhar Chandra Mitra
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहां गये हम
कहां गये हम
Surinder blackpen
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
sushil sarna
लिखने से रह गये
लिखने से रह गये
Dr fauzia Naseem shad
उपहार
उपहार
Satish Srijan
इंसान इंसानियत को निगल गया है
इंसान इंसानियत को निगल गया है
Bhupendra Rawat
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
अमृत मयी गंगा जलधारा
अमृत मयी गंगा जलधारा
Ritu Asooja
★ बचपन और बारिश...
★ बचपन और बारिश...
*Author प्रणय प्रभात*
" बंध खोले जाए मौसम "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...