Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए

कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
रास्ते अच्छे लगे , हम रास्तों में अटक गए

110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2345.पूर्णिका
2345.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विषय – मौन
विषय – मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"कोई तो है"
Dr. Kishan tandon kranti
आपन गांव
आपन गांव
अनिल "आदर्श"
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जिसनै खोया होगा
जिसनै खोया होगा
MSW Sunil SainiCENA
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
Neelam Sharma
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
ख़ामोश हर ज़ुबाँ पर
ख़ामोश हर ज़ुबाँ पर
Dr fauzia Naseem shad
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
बेटी-पिता का रिश्ता
बेटी-पिता का रिश्ता
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बोझ हसरतों का - मुक्तक
बोझ हसरतों का - मुक्तक
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बदलियां
बदलियां
surenderpal vaidya
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
आहत हो कर बापू बोले
आहत हो कर बापू बोले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
Manisha Manjari
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
Seema gupta,Alwar
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
साइंस ऑफ लव
साइंस ऑफ लव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
कवि दीपक बवेजा
*ये झरने गीत गाते हैं, सुनो संगीत पानी का (मुक्तक)*
*ये झरने गीत गाते हैं, सुनो संगीत पानी का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
फकत है तमन्ना इतनी।
फकत है तमन्ना इतनी।
Taj Mohammad
Loading...