Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

कुछ बात थी

तेरे बिन आज फिर अंधेरी रात थी
कुछ नहीं था अब वो सूनी रात थी।।

मैं तो अब भी खड़ा हूं तेरी राह में
गर तुम आ जाते तो कुछ बात थी।।

तू जानता है अंधेरे से डरता हूं मैं
तुम जुगनू बन जाते तो कुछ बात थी।।

है सफर ये लंबा, तेरे बिन कटेगा नहीं
राह में तू मिल जाता तो कुछ बात थी।।

जानता हूं ज़माने से डरते हो तुम
इश्क़ छुपकर जताते तो कुछ बात थी।।

दिल ये टूटा नहीं है, है तेरी आस में
तुम दिल में बस जाते तो कुछ बात थी।।

9 Likes · 1 Comment · 1808 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शरद पूर्णिमा पर्व है,
शरद पूर्णिमा पर्व है,
Satish Srijan
सांत्वना
सांत्वना
भरत कुमार सोलंकी
मैंने रात को जागकर देखा है
मैंने रात को जागकर देखा है
शेखर सिंह
"आसानी से"
Dr. Kishan tandon kranti
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
पुश्तैनी मकान.....
पुश्तैनी मकान.....
Awadhesh Kumar Singh
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
We all have our own unique paths,
We all have our own unique paths,
पूर्वार्थ
#क़ता (मुक्तक)
#क़ता (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
ruby kumari
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
DrLakshman Jha Parimal
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
हे दिनकर - दीपक नीलपदम्
हे दिनकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"प्यार में तेरे "
Pushpraj Anant
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
shabina. Naaz
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
Shweta Soni
कोई जब पथ भूल जाएं
कोई जब पथ भूल जाएं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*ज्ञानी की फटकार (पॉंच दोहे)*
*ज्ञानी की फटकार (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
Mansi Tripathi
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
तुझसे कुछ नहीं चाहिये ए जिन्दगीं
तुझसे कुछ नहीं चाहिये ए जिन्दगीं
Jay Dewangan
✍️गहरी बात✍️
✍️गहरी बात✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
23/218. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/218. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
Dr Parveen Thakur
पहचान तेरी क्या है
पहचान तेरी क्या है
Dr fauzia Naseem shad
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
आखिर क्यों
आखिर क्यों
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
Sarfaraz Ahmed Aasee
Loading...