Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

कुछ फ़क़त आतिश-ए-रंज़िश में लगे रहते हैं

ग़ज़ल
कुछ फ़क़त आतिश-ए-रंज़िश में लगे रहते हैं
और हम प्यार की बारिश में लगे रहते हैं

काम अंजाम ख़मोशी से भी देते कुछ लोग
और कुछ लोग नुमाइश में लगे रहते हैं

बुत बना लेते हैं कुछ लोग अना¹ का अपनी
और फिर उसकी परस्तिश² में लगे रहते हैं

क्यों न किरदार चमकदार नज़र आयेगा
चाटुकार उनके जो पाॅलिश में लगे रहते हैं

घोंटना पड़ता गला बाप को अरमानों का
बच्चे फ़रमाइश-ओ-ख़्वाहिश में लगे रहते हैं

जो है मंजूर-ए-ख़ुदा सिर्फ़ वही होना है
लोग बे-कार ही साज़िश में लगे रहते हैं

क़ाबिल-ए-दाद³ नहीं शे’र मेरे फिर भी ‘अनीस’
आप बस यूं ही सताइश में लगे रहते हैं
– अनीस शाह’ अनीस’
1.अना=ego 2. परस्तिश=पूजा 3.क़ाबिल-ए-दाद=प्रशंसा के योग्य

Anis Shah

Language: Hindi
1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अरे योगी तूने क्या किया ?
अरे योगी तूने क्या किया ?
Mukta Rashmi
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
surenderpal vaidya
"व्याख्या-विहीन"
Dr. Kishan tandon kranti
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
Basant Bhagawan Roy
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
Ravi Betulwala
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
gurudeenverma198
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
काम से राम के ओर।
काम से राम के ओर।
Acharya Rama Nand Mandal
■ जय नागलोक
■ जय नागलोक
*प्रणय प्रभात*
ऋतु शरद
ऋतु शरद
Sandeep Pande
दिल कि गली
दिल कि गली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
हिंदी साहित्य की नई विधा : सजल
हिंदी साहित्य की नई विधा : सजल
Sushila joshi
बदलाव की ओर
बदलाव की ओर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Harminder Kaur
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
"मेरी बेटी है नंदिनी"
Ekta chitrangini
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*साइकिल (बाल कविता)*
*साइकिल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मोहब्बत तो अब भी
मोहब्बत तो अब भी
Surinder blackpen
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
Dr fauzia Naseem shad
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
पूर्वार्थ
Loading...