Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

*कुछ पुरातन और थोड़ा, आधुनिक गठजोड़ है (हिंदी गजल)*

कुछ पुरातन और थोड़ा, आधुनिक गठजोड़ है (हिंदी गजल)
➖➖➖➖➖➖➖➖
1)
कुछ पुरातन और थोड़ा, आधुनिक गठजोड़ है
हर कदम पर आजकल कुछ, अटपटा ही मोड़ है
2)
यह दिखावे की प्रथाऍं, आत्मघाती जानिए
पार्टियॉं होटल में करना, इस समय की होड़ है
3)
शत्रुओं के वार से तो, आप बच भी जाइए
मित्र के षड्यंत्र का पर, कब कहॉं कुछ तोड़ है
4)
एक दिन चिंता का दौरा, पड़ गया उस व्यक्ति को
सब जग समझता था जिसे, व्यक्ति एक हॅंसोड़ है
5)
कर्म के फल की कभी भी, चाहना करना नहीं
संसार के सब ज्ञान का, एकमात्र निचोड़ है
6)
एक पग पीछे हटाना, जानिए चातुर्य-मति
युद्ध को जीता उसी ने, जो बना रणछोड़ है
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

518 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दूर हमसे वो जब से जाने लगे हैंं ।
दूर हमसे वो जब से जाने लगे हैंं ।
Anil chobisa
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है
शेखर सिंह
बहुत याद आता है
बहुत याद आता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मेरी दोस्ती के लायक कोई यार नही
मेरी दोस्ती के लायक कोई यार नही
Rituraj shivem verma
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
अपना अनुपम देश है, भारतवर्ष महान ( कुंडलिया )*
अपना अनुपम देश है, भारतवर्ष महान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
बाक़ी है..!
बाक़ी है..!
Srishty Bansal
इतना आदर
इतना आदर
Basant Bhagawan Roy
" माँ "
Dr. Kishan tandon kranti
नम्रता
नम्रता
ओंकार मिश्र
कि लड़का अब मैं वो नहीं
कि लड़का अब मैं वो नहीं
The_dk_poetry
जितने चंचल है कान्हा
जितने चंचल है कान्हा
Harminder Kaur
हॉस्पिटल मैनेजमेंट
हॉस्पिटल मैनेजमेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
मज़दूर दिवस
मज़दूर दिवस
Shekhar Chandra Mitra
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
Anand Kumar
तय
तय
Ajay Mishra
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
मज़दूर
मज़दूर
Neelam Sharma
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
Phool gufran
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
Dr. Narendra Valmiki
वातायन के खोलती,
वातायन के खोलती,
sushil sarna
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*प्रणय प्रभात*
तुम वह दिल नहीं हो, जिससे हम प्यार करें
तुम वह दिल नहीं हो, जिससे हम प्यार करें
gurudeenverma198
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...