Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 27, 2022 · 1 min read

कुछ ना रहा

अब लौटने की कोई मेरे पास वजह ना रहा
जब कोई रिश्ता ना रहा तो कुछ ना रहा।

अब उन बातों,उन वादों का कोई मतलब ना रहा
जब तेरे साथ ना रहा तो कुछ ना रहा ।।

सिसकती हैं रातें भी, तन्हा तेरी यादों में
जब रातों को सुकून ना रहा तो कुछ ना रहा ।।

बेमतलबी ज़मानों में, दिलावर दिवानो में
जब तेरा-मेरा कोई तलूकात ना रहा तो कुछ ना रहा।।

अब दुहाई ना दे इश्क की, ख़ुदा भी देख रहा होगा
जब प्यार ही ऐतवार के काबिल ना रहा तो दुनिया में कुछ ना रहा।।

मुहब्बत बहुत खूबसूरत उपहार है खुदा का
जब उसी का दिया उपहार साथ ना रहा तो कुछ ना रहा ।।

नीतू साह
हुसेना बंगरा, सीवान-बिहार

2 Likes · 4 Comments · 68 Views
You may also like:
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
दौर-ए-सफर
DESH RAJ
*राजनीति में बाहुबल का प्रशिक्षण (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
*मंत्री जी (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
रकमिश सुल्तानपुरी
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
प्रिय
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
धार्मिक बनाम धर्मशील
Shivkumar Bilagrami
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
मत कहो भगवान से
Meenakshi Nagar
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalveer Singh
सिरत को सजाओं
Anamika Singh
तड़फ
Harshvardhan "आवारा"
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
"शौर्य"
Lohit Tamta
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार "कर्ण"
ज़िंदा हूं मरा नहीं हूं।
Taj Mohammad
हंसगति छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
✍️जिंदगी के तौरतरीके✍️
'अशांत' शेखर
पैसा बोलता है...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...