Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 25, 2017 · 1 min read

कुछ नये दोहे

1–
धन को काला कह रहे, देखो अपना रूप,
लाइन वो भी लग रहे, कल तक जो थे भूप।।

2–
तुलना अब न कीजिए, ये है जहर समान।

कैसा आया वक्त है, नमक हुआ हराम।।

3–
सेना कभी न कर सके, दो पल भी आराम।
लाइन जो लगनी पड़ी, कोसे लोग तमाम।।

4–
बटुआ था प्यार का, खाली ही रह गया।।
भरते रहे प्यार को, पाप घडा भर गया।।

5–
पी बिना जी ना लगे, पी बिना ना चैन।।
सदियों लम्बी लग रही, छोटी थी जो रैन।।

6–
बात नोट की कीजिए, न कीजै कुछ काम।।

पैसे की माला जपै, छोड़ राम का नाम।।

7–
विषमय नीर हो गया, हुए विषैले वन।

प्यार है लालच बना, विषधर बैठे मन।।

8–
आंगन सूना हो गया, सूना हर इतवार।

पिया के घर बस गयी, छोड मेरा संसार।।

स्वरचित।

अमित मौर्य

+91-7849894373

1 Like · 404 Views
You may also like:
टूटता तारा
अनामिका सिंह
पिता
Meenakshi Nagar
चाय की चुस्की
श्री रमण
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
'विनाश' के बाद 'समझौता'... क्या फायदा..?
Dr. Alpa H. Amin
✍️✍️हौंसला✍️✍️
"अशांत" शेखर
मंज़िल मौत है तो जिंदगी एक सफ़र है
Krishan Singh
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
✍️आझादी की किंमत✍️
"अशांत" शेखर
आमाल।
Taj Mohammad
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
पिता
KAMAL THAKUR
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️तुम पुकार लो..!✍️
"अशांत" शेखर
Baby cries.
Taj Mohammad
तेरे संग...
Dr. Alpa H. Amin
गरीब के हालात
Ram Krishan Rastogi
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
आत्महत्या क्यों ?
अनामिका सिंह
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बिछड़न [भाग१]
अनामिका सिंह
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
Loading...