Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2016 · 1 min read

कुछ दोहे (माँ)

प्यार लिखा हर पृष्ठ पर ,माँ वो खुली किताब
माँ के आँचल की महक, जैसे खिला गुलाब

माँ तो ममता का कभी ,रखती नहीं हिसाब
बेटा हो सकता बुरा ,माँ पर नहीं ख़राब

जब सब सुन्दर लिख रहे,मातृदिवस के नाम
वृद्धाश्रम का फिर यहाँ , बोलो क्या कुछ काम

माँ की जीते जी नही, करते सेवा कर्म
खूब निभाते वो मगर ,मरने पर सब धर्म

साधारण होती नहीं , माँ तो है भगवान
पावन गीता ग्रन्थ है , ये ही पाक कुरान
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: दोहा
3 Comments · 788 Views
You may also like:
सबसे बड़ा पप्पू
Shekhar Chandra Mitra
धीरे-धीरे तुम बढ़ चलो आसमां पे।
Buddha Prakash
“ कुछ दिन शरणार्थियों के साथ ”
DrLakshman Jha Parimal
Revenge shayari
★ IPS KAMAL THAKUR ★
आदिवासी -देविता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सजल
Rashmi Sanjay
मेरे दिल की धड़कनों को बढ़ाते हो किस लिए।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिस घर में---
लक्ष्मी सिंह
मुस्कुरा के दिखा नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
पिता की पराजय
सूर्यकांत द्विवेदी
कान्हा तोरी याद सताए
Shivkumar Bilagrami
महाराणा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
चांदनी की चादर।
Taj Mohammad
✍️एक ख़ुर्शीद आया✍️
'अशांत' शेखर
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
माँ शैलपुत्री
Vandana Namdev
ग़लतफ़हमी है हमको हम उजाले कर रहे हैं
Anis Shah
निःशब्द- पुस्तक लोकार्पण समारोह
Sahityapedia
तुमने वफा न निभाया
Anamika Singh
दोगले मित्र
अमरेश मिश्र 'सरल'
मैंने रोक रखा है चांद
Kaur Surinder
कहते हैं न....
Varun Singh Gautam
पानी बरसे मेघ से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दिल की दवा चाहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"तेरे बिन "
Rajkumar Bhatt
💐💐किं विचारणीय:?💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भुनेश्वर सिन्हा कांग्रेस नेता छत्तीसगढ़ । Bhuneshwar sinha politician chattisgarh
Bhuneshwar sinha
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
*विधि के प्रणीत विधान हैं( मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...