Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2016 · 1 min read

कुछ दोहे…

फँसी भंवर में जिंदगी, हुए ठहाके मौन ।
दरवाजों पर बेबशी, टांग रहा है कौन ।।

इस मायावी जगत में, सीखा उसने ज्ञान ।
बिना किये लटका गया, कंधे पर अहसान ।।

महानगर या गाँव हो, एक सरीखे लोग ।
परम्पराएँ भूल कर, भोग रहे है भोग ।।

किस से अपना दुःख कहें, कलियाँ लहूलुहान ।
माली सोया बाग़ में, अपनी चादर तान ।।

कपट भरें हैं आदमी, विष से भरी बयार ।
कितने मुश्किल हो गए, जीवन के दिन चार ।।

खो बैठा है आदमी, रिश्तों की पहचान ।
जिस दिन से मँहगे हुए, गेंहूँ, मकई, धान ।।

खुशियाँ मिली न हाट में, खाली मिली दुकान ।
हानि लाभ के जोड़ में उलझ रहे दिनमान ।।

— त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 570 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भूख दौलत की जिसे,  रब उससे
भूख दौलत की जिसे, रब उससे
Anis Shah
गौरेया (ताटंक छन्द)
गौरेया (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
#तन्ज़िया_शेर...
#तन्ज़िया_शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
मन
मन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चल बन्दे.....
चल बन्दे.....
Srishty Bansal
हाइकु: गौ बचाओं.!
हाइकु: गौ बचाओं.!
Prabhudayal Raniwal
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
प्रेम की राख
प्रेम की राख
Buddha Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मरीचिका
मरीचिका
लक्ष्मी सिंह
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*आम (बाल कविता)*
*आम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल है या दिल्ली?
दिल है या दिल्ली?
Shekhar Chandra Mitra
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
The Hard Problem of Law
The Hard Problem of Law
AJAY AMITABH SUMAN
" वाई फाई में बसी सबकी जान "
Dr Meenu Poonia
थोड़ा पैसा कमाने के लिए दूर क्या निकले पास वाले दूर हो गये l
थोड़ा पैसा कमाने के लिए दूर क्या निकले पास वाले दूर हो गये l
Ranjeet kumar patre
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
Jay shri ram
Jay shri ram
Saifganj_shorts_me
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
झूला....
झूला....
Harminder Kaur
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
" चलन "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
3051.*पूर्णिका*
3051.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
Arvind trivedi
Loading...