Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

“कुछ जगह ऐसी होती हैं

“कुछ जगह ऐसी होती हैं
जहां अधिकार से नहीं,
मनुहार से रुका जाना चाहिए।
जैसे कि- “ससुराल।।”

😊प्रणय प्रभात😊

1 Like · 399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी, जिंदगी है इसे सवाल ना बना
जिंदगी, जिंदगी है इसे सवाल ना बना
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रब ने बना दी जोड़ी😊😊
रब ने बना दी जोड़ी😊😊
*प्रणय प्रभात*
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
पूर्वार्थ
ग़म-ए-दिल....
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
"धन्य प्रीत की रीत.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
Atul "Krishn"
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr.Priya Soni Khare
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*दर्द का दरिया  प्यार है*
*दर्द का दरिया प्यार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम आज भी
हम आज भी
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरे छिनते घर
मेरे छिनते घर
Anjana banda
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
यदि सत्य बोलने के लिए राजा हरिश्चंद्र को याद किया जाता है
यदि सत्य बोलने के लिए राजा हरिश्चंद्र को याद किया जाता है
शेखर सिंह
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रखना जीवन में सदा, सुंदर दृष्टा-भाव (कुंडलिया)
रखना जीवन में सदा, सुंदर दृष्टा-भाव (कुंडलिया)
Ravi Prakash
3382⚘ *पूर्णिका* ⚘
3382⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
श्रृंगार
श्रृंगार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पुलवामा वीरों को नमन
पुलवामा वीरों को नमन
Satish Srijan
औरत तेरी गाथा
औरत तेरी गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
AJAY AMITABH SUMAN
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Sonam Puneet Dubey
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
Sanjay ' शून्य'
"माटी-तिहार"
Dr. Kishan tandon kranti
त्राहि त्राहि
त्राहि त्राहि
Dr.Pratibha Prakash
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
Loading...