Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 30, 2016 · 1 min read

कुछ गीला लिखा नहीं है

कागज़ पर कुछ गीला लिखा नहीं है।
शायद कोई दर्द नया मिला नहीं है।

स्याही भी बिखर जाती थी शब्दों की
पर ज़ख्म कभी हमने वो सिला नहीं है।

मन के किसी कौने में है जमा वो शब्द
जिनसे ऐ ज़िन्दगी अब कोई गिला नहीं है।

तब भी मुस्कुरा के झेला था अब भी झेलेंगे
तुम्हारी बातों का असर कब दिखा नहीं है।।।
कामनी गुप्ता ***

1 Comment · 168 Views
You may also like:
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
अभिलाषा
Anamika Singh
चलो आग-ए-इश्क का दरिया पार करते है।
Taj Mohammad
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
कलम
Dr Meenu Poonia
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हे मनुष्य!
Vijaykumar Gundal
देखो
Dr.Priya Soni Khare
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
"ईद"
Lohit Tamta
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
परिवार
Dr Meenu Poonia
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
हुस्न में आफरीन लगती हो
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
लूं राम या रहीम का नाम
Mahesh Ojha
हसद
Alok Saxena
शब्दों से परे
Mahendra Rai
Loading...