Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

कुछ गीला लिखा नहीं है

कागज़ पर कुछ गीला लिखा नहीं है।
शायद कोई दर्द नया मिला नहीं है।

स्याही भी बिखर जाती थी शब्दों की
पर ज़ख्म कभी हमने वो सिला नहीं है।

मन के किसी कौने में है जमा वो शब्द
जिनसे ऐ ज़िन्दगी अब कोई गिला नहीं है।

तब भी मुस्कुरा के झेला था अब भी झेलेंगे
तुम्हारी बातों का असर कब दिखा नहीं है।।।
कामनी गुप्ता ***

1 Comment · 311 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सर्दियों की धूप
सर्दियों की धूप
Vandna Thakur
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
💐प्रेम कौतुक-394💐
💐प्रेम कौतुक-394💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
gurudeenverma198
कविता
कविता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
■ आज का अनुरोध...
■ आज का अनुरोध...
*Author प्रणय प्रभात*
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
आशा
आशा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Being quiet not always shows you're wise but sometimes it sh
Being quiet not always shows you're wise but sometimes it sh
Sukoon
काश जन चेतना भरे कुलांचें
काश जन चेतना भरे कुलांचें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2787. *पूर्णिका*
2787. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
Aarti sirsat
रामायण में भाभी
रामायण में भाभी "माँ" के समान और महाभारत में भाभी "पत्नी" के
शेखर सिंह
*कोटि-कोटि हे जय गणपति हे, जय जय देव गणेश (गीतिका)*
*कोटि-कोटि हे जय गणपति हे, जय जय देव गणेश (गीतिका)*
Ravi Prakash
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
AMRESH KUMAR VERMA
क्या है मोहब्बत??
क्या है मोहब्बत??
Skanda Joshi
Quote...
Quote...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
sushil sarna
*अवध  में  प्रभु  राम  पधारें है*
*अवध में प्रभु राम पधारें है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरी परवाह करते हुए ,
तेरी परवाह करते हुए ,
Buddha Prakash
आंखों से बयां नहीं होते
आंखों से बयां नहीं होते
Harminder Kaur
अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
बचपन के दिन
बचपन के दिन
Surinder blackpen
Loading...