Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2018 · 1 min read

कुछ गङबङ है!!

कुछ गङबङ है!!

देख रही हूं कुछ गङबङ है
ये बेचैनी और ये हङबङ है!!

मौहब्बत नयी दिखे,है जालिम
बोली में भी तेरे खङखङ है!!

बदली से ये बादल टकराया
अब बिजली की कङकङ है!!

हरियाला सावन जम के बरसा
इश्किया पत्तों की खङखङ है!!

बुद बुद बुद क्यूं बतियाते हो
खुद से खुद की बङबङ है!!

पंगे नये नये, लिये है दिल से
दिल से दिल की तङतङ है!!

रेलगाङी में सफर करोगे बाबू
बिन पटरी के तो धङधङ है!!

बिना तान की बजी शहनाई
पुंगी बाजा सब जङवङ है!!

उङ गया पंछी सा दिल तेरा
अब पंखो की ये फङफङ है!!

प्यार किया तो डरना क्या है
प्यारे, प्यार हुआ तो गङबङ है!!
———– डा. निशा माथुर

Language: Hindi
1 Like · 822 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"खुशी मत मना"
Dr. Kishan tandon kranti
लाखों रावण पहुंच गए हैं,
लाखों रावण पहुंच गए हैं,
Pramila sultan
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
" शिक्षक "
Pushpraj Anant
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
चली ⛈️सावन की डोर➰
चली ⛈️सावन की डोर➰
डॉ० रोहित कौशिक
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
Sukoon
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
ज़रूरी है...!!!!
ज़रूरी है...!!!!
Jyoti Khari
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
Rakesh Singh
याद आती है
याद आती है
Er. Sanjay Shrivastava
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
3108.*पूर्णिका*
3108.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
फिर से ऐसी कोई भूल मैं
फिर से ऐसी कोई भूल मैं
gurudeenverma198
राम आधार हैं
राम आधार हैं
Mamta Rani
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
Ajay Kumar Vimal
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
DrLakshman Jha Parimal
प्यारी बहना
प्यारी बहना
Astuti Kumari
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
मन तो बावरा है
मन तो बावरा है
हिमांशु Kulshrestha
अल्प इस जीवन में
अल्प इस जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
💐प्रेम कौतुक-470💐
💐प्रेम कौतुक-470💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...