Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2022 · 1 min read

महका हम करेंगें।

मां तेरा कर्ज कैसे अदा हम करेंगे।
मोहब्बतों का तेरी सिला कैसे देंगे।।1।।

रिश्तों में आला हो तुम सभी पर।
फिदा तेरी ममता पे सदा हम रहेगें।।2।।

मां तुमसे कोई भी सवाल करके।
जहन्नम पाने का गुनाह हम करेंगें।।3।।

यूं मखलूक को खुदा नहीं कहते।
ऐसे शिर्क करके खता सब करेंगें।।4।।

अदबो लिहाज़ में रखो बच्चों को।
वर्ना बर्बादी की वजह खुद बनेंगे।।5।।

गजरा बनाके सजा लो गेसुओं में।
खुशबू बन कर महका हम करेंगें।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 2 Comments · 261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई उम्मीद
कोई उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
"चली आ रही सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
खाओ जलेबी
खाओ जलेबी
surenderpal vaidya
2678.*पूर्णिका*
2678.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
दोहावली...(११)
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
आगाज़
आगाज़
Vivek saswat Shukla
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
काले समय का सवेरा ।
काले समय का सवेरा ।
Nishant prakhar
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
जय जय जय जय बुद्ध महान ।
जय जय जय जय बुद्ध महान ।
Buddha Prakash
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
Surinder blackpen
खालीपन
खालीपन
MEENU
परिवर्तन विकास बेशुमार🧭🛶🚀🚁
परिवर्तन विकास बेशुमार🧭🛶🚀🚁
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
मैं तो महज संसार हूँ
मैं तो महज संसार हूँ
VINOD CHAUHAN
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
Dr MusafiR BaithA
दोहा
दोहा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*युगपुरुष राम भरोसे लाल (नाटक)*
*युगपुरुष राम भरोसे लाल (नाटक)*
Ravi Prakash
सच हमारे जीवन के नक्षत्र होते हैं।
सच हमारे जीवन के नक्षत्र होते हैं।
Neeraj Agarwal
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
Deepak Baweja
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
Suryakant Dwivedi
🌷मनोरथ🌷
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार कर्ण
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
*एक चूहा*
*एक चूहा*
Ghanshyam Poddar
Loading...