Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,

कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,

कुछ नया शुरू करने के लिए..!

193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बदनसीब डायरी
बदनसीब डायरी
Dr. Kishan tandon kranti
घनाक्षरी छंद
घनाक्षरी छंद
Rajesh vyas
वो एक संगीत प्रेमी बन गया,
वो एक संगीत प्रेमी बन गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
■ आंसू माने भेदिया।
■ आंसू माने भेदिया।
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
समा गये हो तुम रूह में मेरी
समा गये हो तुम रूह में मेरी
Pramila sultan
*शिक्षक*
*शिक्षक*
Dushyant Kumar
पढ़ने को आतुर है,
पढ़ने को आतुर है,
Mahender Singh
*असर*
*असर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुझे किस बात ला गुमान है
तुझे किस बात ला गुमान है
भरत कुमार सोलंकी
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
खुदा की हर बात सही
खुदा की हर बात सही
Harminder Kaur
अकेलापन
अकेलापन
लक्ष्मी सिंह
बेशर्मी के कहकहे,
बेशर्मी के कहकहे,
sushil sarna
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
Keshav kishor Kumar
3652.💐 *पूर्णिका* 💐
3652.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
Bhupendra Rawat
फूल बन खुशबू बिखेरो तो कोई बात बने
फूल बन खुशबू बिखेरो तो कोई बात बने
इंजी. संजय श्रीवास्तव
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
"क्रोधित चिड़िमार"(संस्मरण -फौजी दर्शन ) {AMC CENTRE LUCKNOW}
DrLakshman Jha Parimal
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
ज़िंदगी की चाहत में
ज़िंदगी की चाहत में
Dr fauzia Naseem shad
vah kaun hai?
vah kaun hai?
ASHISH KUMAR SINGH
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
जनता का पैसा खा रहा मंहगाई
जनता का पैसा खा रहा मंहगाई
नेताम आर सी
हो गए दूर क्यों, अब हमसे तुम
हो गए दूर क्यों, अब हमसे तुम
gurudeenverma198
Loading...