Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 3 min read

उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA

2011 की बात है। फेसबुक पर बिहार सरकार/कार्यालय विरोधी पोस्ट डालने के आरोप में मुझे सस्पेंड/निलंबित कर दिया गया था।

शायद, किसी सरकारी कर्मचारी को फेसबुक पोस्ट के आधार पर नौकरी से निलंबित किये जाने का भारत ही नहीं, दुनिया में सबसे पहला मामला था। फेसबुक को पॉपुलर हुए भी कोई दो साल ही हुए थे।

कहानी तो मेरे इस निलंबन की कई चली थी। बीबीसी ने खबर चलाई थी। दो न्यूज चैनल ने मेरा इंटरव्यू जैसा लेना चाहा था, एक तो मेरे घर के स्टडी रूप और कम्प्यूटर पर फेसबुक खुलवाकर वीडियो बनवा कर भी ले गया था। तो न्यूज़ चैनल ने पटना के मशहूर इको पार्क (राजधानी वाटिका) में चहलकदमी करवाते हुए वीडियो बनवाई थी। मगर, मैंने इन सबसे मामले को और हवा देने वाली कोई बात नहीं की उनसे। दो चैनलों ने तो live बहस भी इस निलंबन पर चला दी जिसमें से एक ने मुझे भी बहस में हिस्सा लेने का न्योता दिया। कहा कि बहस में हिस्सा लेने में असुविधा महसूस कर रहे हैं तो स्टूडियो के दर्शक का ही हिस्सा बन जाइये। मैंने मना कर दिया कि यह तो एक तरह से तमाशा बनना ही हो जाएगा।

एक अख़बार के स्थानीय ‘i next’ नामक ‘बच्चा’ एडीशन ने मेरी तस्वीर के साथ लीड स्टोरी बनाई थी – “मुसाफ़िर जाएगा कहाँ?”

एक किताब भी मेरे और दो अन्य लोगों के ‘वीर बालकत्व’ पर लिख डाली गयी!

बावज़ूद इस सब के निलंबन अच्छी अवधि तक चली।

इस निलंबन के बाद तो ऑफिस के मित्रवत संबंध वाले कार्यालय साथी तक मुझसे आँखें चुराने लगे, मिलने से कतराने लगे, रास्ता बदलने लगे, बोलना बतियाना छोड़ दिया, कि मेरे साथ देखे जाने से कार्यालय की, ‘व्यवस्था’ की नज़र में कहीं वे भी न आ जाएं!

बहरहाल, इस पोस्ट के अपने मूल लक्ष्य पर आता हूँ। मैंने अपनी एक fb पोस्ट में उधार देने की परेशानी पर बात की थी।

मेरे निलंबन के आड़े वक़्त में मेरे साथ एक कमरे में बैठकर काम करने वालों में से किसी ने आर्थिक सहायता (उधार के रूप में) देने का ऑफर न किया। साथियों में जबकि सवर्ण के अलावा बहुजन भी थे।

कार्यालय से सस्पेंशन पीरियड में छहेक महीनों तक वेतन न मिला, जबकि तुरंत से पारिवारिक जीवनयापन हेतु मूल वेतन देना होता है।

जब मैंने लिखित आवेदन–निवेदन किया तब बाद में निलंबन अवधि तक यह आधा वेतन मिला जो घर की सारी जरूरतों के लिए नाकाफ़ी था।

उधर, एक सवर्ण सहकर्मी की बेटी जब गंभीर रूप से बीमार पड़ी थी तो एक बामन सहकर्मी ने पहल कर आपस में चंदा किया था, मैंने भी इसमें सहयोग किया था। मेरे मामले में किसी ने यह पहल न ली थी।

भले ही मुझे अपने कार्यालय साथियों से आर्थिक सहायता न मिली तो मगर, एक जगह से अप्रत्याशित मदद मिली। लिखने पढ़ने के मेल से एक युवक से दोस्ती हुई थी। वह तबतक झारखंड प्रशासनिक सेवा में आ गया था और ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर था। इस परीक्षा की तैयारी के समय भी वह पटना में आकर दो बार मिला था, कि आप अपने अनुभव से टिप्स दें। बड़े भाई का आशीर्वाद टाइप की चीज़ भी उसे चाहिए थी!

उस मित्र का यहाँ नाम न लूँगा क्योंकि बिना उसकी अनुमति से नाम जाहिर करना सही नहीं रहेगा।

उसने उस वक्त 25 हजार रुपए मदद करने की बात की, कि एक छोटे भाई की ओर से मैं यह छोटी सी रकम रख लूँ। छोटी सी रकम उनके ही शब्द हैं। सन 2011 की बात है यह। तब तो उसे वेतन ही लगभग इतना ही मिलता रहा होगा। कहना न होगा कि तो सहायता की बड़ी राशि थी।

मैंने मदद पाने की शर्त रखी, कि एक ही शर्त पर पैसे लूँगा, जब आप वापस भी लेंगे। जब मुझे पैसे होंगे, यानी अपनी सुविधा के अनुसार पैसे लौटा दूँगा।

शत्रु की न सही, दुःख में, गाढ़े वक्त में मित्र और निकटस्थ अन्यमनस्क लोगों की पहचान तो हो ही जाती है!

Language: Hindi
121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
गांधी और गोडसे में तुम लोग किसे चुनोगे?
गांधी और गोडसे में तुम लोग किसे चुनोगे?
Shekhar Chandra Mitra
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दुनिया में तरह -तरह के लोग मिलेंगे,
दुनिया में तरह -तरह के लोग मिलेंगे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
गुलाब के काॅंटे
गुलाब के काॅंटे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
पहचान
पहचान
Dr.Priya Soni Khare
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
शेखर सिंह
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दीवाना - सा लगता है
दीवाना - सा लगता है
Madhuyanka Raj
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
Kanchan Khanna
*हटता है परिदृश्य से, अकस्मात इंसान (कुंडलिया)*
*हटता है परिदृश्य से, अकस्मात इंसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"मुर्गा"
Dr. Kishan tandon kranti
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
Rj Anand Prajapati
धर्म की खूंटी
धर्म की खूंटी
मनोज कर्ण
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
बाबागिरी
बाबागिरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*कभी  प्यार में  कोई तिजारत ना हो*
*कभी प्यार में कोई तिजारत ना हो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ऋतुराज (घनाक्षरी )
ऋतुराज (घनाक्षरी )
डॉक्टर रागिनी
"नुक़्ता-चीनी" करना
*प्रणय प्रभात*
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
ruby kumari
24/250. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/250. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नव वर्ष का आगाज़
नव वर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
Loading...