Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2016 · 1 min read

कुछ कुण्डलिनी छंद

कुछ कुण्डलिनी छंद
■■■■■■■■■■■■■■
1-
मस्ती मेँ कटती नहीँ, उन लोगोँ की रात।
गर जो ये करते नहीँ, श्रम वाली बरसात।
श्रम वाली बरसात, श्रमिक ही ले आते हैँ।
ये सारे धनवान, तभी तो सो पाते हैँ।।
2-
गाते, कलियाँ, कोकिला, नदी, पेड़ अरु घास।
यूँ लगते मदमस्त हैं, आए ज्यों मधुमास।
आए ज्यों मधुमास, काश तुम भी आ जाते।
खिलते दोनों साथ, झूमकर हम तुम गाते।।
3-
होली के हुड़दंग मेँ, मस्ती का यह ढंग।
जी चाहे हर रंग को, रख लूँ अपने संग।
रख लूँ अपने संग, अंग से इसे लगा लूँ।
पी लूँ थोड़ा भंग, संग तेरे मैँ गा लूँ।।
4-
होली यह तेरे बिना, देती दर्द अपार।
रंगोँ की बौछार मेँ, सूखा है त्योहार।
सूखा है त्योहार, यार मैँ भी मुरझाया।
ना तूँ मेरे यार, नहीँ संदेशा आया।।
5-
ऐसे तुम क्योँ हो रहे, भाई पीले लाल।
भाई पीले लाल क्योँ, मैँ जो हूँ कंगाल!
मैँ जो हूँ कंगाल, नहीँ हैँ इतने पैसे।
इतने पैसे पास, न डूबो रँग मेँ ऐसे।।

– आकाश महेशपुरी

Language: Hindi
367 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सृजन तेरी कवितायें
सृजन तेरी कवितायें
Satish Srijan
बिना चले गन्तव्य को,
बिना चले गन्तव्य को,
sushil sarna
बौराये-से फूल /
बौराये-से फूल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"मन-मतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
!! सत्य !!
!! सत्य !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*हिंदी गजल/ गीतिका : एक अध्ययन*
*हिंदी गजल/ गीतिका : एक अध्ययन*
Ravi Prakash
लगाव
लगाव
Rajni kapoor
💐प्रेम कौतुक-498💐
💐प्रेम कौतुक-498💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल में एहसास
दिल में एहसास
Dr fauzia Naseem shad
*आत्मविश्वास*
*आत्मविश्वास*
Ritu Asooja
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
पूर्वार्थ
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"जो डर गया, समझो मर गया।"
*Author प्रणय प्रभात*
POWER
POWER
Satbir Singh Sidhu
रात बदरिया...
रात बदरिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
Transparency is required to establish a permanent relationsh
Transparency is required to establish a permanent relationsh
DrLakshman Jha Parimal
शासन हो तो ऐसा
शासन हो तो ऐसा
जय लगन कुमार हैप्पी
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
काग़ज़ के पुतले बने,
काग़ज़ के पुतले बने,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
Indramani Sabharwal
ज़रूरतमंद की मदद
ज़रूरतमंद की मदद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन के उलझे तार न सुलझाता कोई,
जीवन के उलझे तार न सुलझाता कोई,
Priya princess panwar
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हारा घर से चला जाना
तुम्हारा घर से चला जाना
Dheerja Sharma
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
Loading...