Sep 19, 2016 · 1 min read

कुछ किया जाये ,ग़ज़ल

आज अपने मुकद्दर को फिर बनाया जाये |
किसी गरीब तक निवाला पहुँचाया जाये ||
रियायते मिलती हैं यहाँ सिर्फ अमीरो को ,
सरकार गरीब का कर्जा भी कुछ चुकाया जाये ||
खिलौना खेलने वाला खिलौना बेचता है ।
देश में है विकास ये कैसे समझाया जाये ।।
ठण्ड में बैठते है रजाई में फिर भी कापते हैं हम ,
खुले आसमां के नीचे कैसे लोरी सुनाया जाये ||
नसीब में उसके शायद आंसू के सिवा कुछ भी नही ,
ख़ुशी का एक आंसू उसकी आँखों में लाया जाये ।।

सुमीत श्रीवास्तव ,कानपुर

1 Comment · 137 Views
You may also like:
Little sister
Buddha Prakash
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
पिता
Santoshi devi
तुम...
Sapna K S
'सती'
Godambari Negi
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
Loading...