Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

कुएं का मेंढ़क

कुएं का मेंढ़क,
कुएं तक ही
सीमित रहता है,
उसे बाहरी दुनिया से
कोई सरोकार नहीं होता है।
अपनी इसी सोच के कारण
वह कुएं में ही
सारा जीवन गुजार देता है,
वहीं प्राण त्याग देता है।
जीवन में बेहतरी के लिए
कुएं का मेंढ़क मत बनो,
अपनी सोच को विस्तार दो,
तर्कशील बनो,
गहन चिंतक बनो,
रूढिवादिता के चक्रव्यूह से
बाहर निकलो,
अभिमन्यु-सा सोचो,
दशरथ मांझी सा प्रण लो।
सफलता कदम चूमेगी,
जग में ख्याति मिलेगी।
बस एक बार,
लीक से हटकर,
कुछ कीजिए………….।

Language: Hindi
64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
Radhakishan R. Mundhra
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
Anil chobisa
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
Phool gufran
।2508.पूर्णिका
।2508.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
भाव
भाव
Sanjay ' शून्य'
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"लक्ष्य"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरा होकर मिलो
मेरा होकर मिलो
Mahetaru madhukar
हाइकु: गौ बचाओं.!
हाइकु: गौ बचाओं.!
Prabhudayal Raniwal
#गणतंत्र दिवस#
#गणतंत्र दिवस#
rubichetanshukla 781
*सर्वदा सबके लिए,सब भाँति सद्-व्यवहार हो (मुक्तक)*
*सर्वदा सबके लिए,सब भाँति सद्-व्यवहार हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
परिभाषाएं अनगिनत,
परिभाषाएं अनगिनत,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मुझे तुम
मुझे तुम
Dr fauzia Naseem shad
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दो शे'र ( अशआर)
दो शे'र ( अशआर)
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
Godambari Negi
* नव जागरण *
* नव जागरण *
surenderpal vaidya
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
वो मुझ को
वो मुझ को "दिल" " ज़िगर" "जान" सब बोलती है मुर्शद
Vishal babu (vishu)
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
Harminder Kaur
विश्व पर्यटन दिवस
विश्व पर्यटन दिवस
Neeraj Agarwal
#हास_परिहास
#हास_परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"विश्वास का दायरा"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने वतन पर सरफ़रोश
अपने वतन पर सरफ़रोश
gurudeenverma198
Loading...