Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Apr 2023 · 1 min read

कुंती कान्हा से कहा,

कुंती कान्हा से कहा,
दीजै मोको दुःख ।
दुख ही नाम जपाये के,
देता बेहद सुख ।

ऐसा करो गोविंद जी,
दुख हो मूसलाधार ।
दुख ही एकल माध्यम,
दुख से मिले करतार।

मानव जीवन बीतता,
केवल सुख की खोज ।
सुख हो अथवा दुख हो,
रहो प्रभु की मौज।

हर हालत में जापिये,
निश दिन हरि का नाम ।
नाम ही लेकर जाएगा,
एक दिन ठाकुरधाम ।

सतीश सृजन

Language: Hindi
469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
कभी-कभी
कभी-कभी
Ragini Kumari
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
पाया ऊँचा ओहदा, रही निम्न क्यों सोच ?
पाया ऊँचा ओहदा, रही निम्न क्यों सोच ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
पुनर्जागरण काल
पुनर्जागरण काल
Dr.Pratibha Prakash
समझ आती नहीं है
समझ आती नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
*हो न लोकतंत्र की हार*
*हो न लोकतंत्र की हार*
Poonam Matia
*रामलला का सूर्य तिलक*
*रामलला का सूर्य तिलक*
Ghanshyam Poddar
जनता को तोडती नही है
जनता को तोडती नही है
Dr. Mulla Adam Ali
"दोस्ती क्या है?"
Pushpraj Anant
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
surenderpal vaidya
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
singh kunwar sarvendra vikram
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
..........?
..........?
शेखर सिंह
धनमद
धनमद
Sanjay ' शून्य'
उम्मीद.............एक आशा
उम्मीद.............एक आशा
Neeraj Agarwal
सनातन संस्कृति
सनातन संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
लिख दूं
लिख दूं
Vivek saswat Shukla
3322.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3322.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
#परिहास
#परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
*माॅं की चाहत*
*माॅं की चाहत*
Harminder Kaur
निर्मेष के दोहे
निर्मेष के दोहे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...