Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2016 · 1 min read

कुंडलिया

*दोहे*
योग्य विवश होकर यहाँ, झेल रहे संताप।
बना हुआ है देश में, आरक्षण अभिशाप।
वंचित हैं वे आज भी, जिनका है अधिकार।
जाने ‘कब’ इस शाप से, होगा जन उध्दार।
इषुप्रिय शर्मा’अंकित’
रामपुरकलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: कविता
164 Views
You may also like:
✍️वक़्त आने पर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सुनती नहीं तुम
शिव प्रताप लोधी
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
व्यथा
Saraswati Bajpai
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
उठो युवा तुम उठो ऐसे/Uthao youa tum uthao aise
Shivraj Anand
दुआ
Alok Saxena
एक घर।
Anil Mishra Prahari
ताज़गी
Shivkumar Bilagrami
मिल गयी
shabina. Naaz
ये हरियाली
Taran Singh Verma
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
पढ़ाई कैरियर और शादी
विजय कुमार अग्रवाल
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
मेरी मां।
Taj Mohammad
माँ की वंदना
Buddha Prakash
क्यों सोचता हूँ मैं इतना
gurudeenverma198
ख़्वाब पर लिखे कुछ अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जी उठती हूं...तड़प उठती हूं...
Seema 'Tu hai na'
*आतिशबाजी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तेरी दहलीज़ तक
Kaur Surinder
जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
चरैवेति चरैवेति का संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भारतीय लोकतंत्र की मुर्मू, एक जीवंत कहानी हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरा नूर
Dr.S.P. Gautam
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️सबक✍️
'अशांत' शेखर
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
पूनम की रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
Loading...