Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Nov 2023 · 1 min read

कुंडलिया छंद

कुंडलिया छंद …..

मनमानी किसकी चली, उसके आगे मित्र ।
वो जीवन के खींचता, चलते फिरते चित्र ।
चलते फिरते चित्र ,समझ ना कुछ भी आया ।
उस दाता के खेल, अजब है उसकी माया ।
कह ‘ सरना ‘ कविराय, नहीं है उसका सानी ।
चले कभी न मित्र , जीव की फिर मनमानी ।
***
राहें जीवन की बड़ी, होती हैं दुश्वार।
एक छोर पर जिंदगी ,एक छोर भव पार।
एक छोर भव पार, यहाँ सब बिखरे सपने ।
हर पल दें आघात , यहाँ पर सारे अपने ।
कह ‘ सरना ‘ कविराय, यहाँ बस गूँजें आहें ।
दूर-दूर तक दर्द, भरी हैं जीवन राहें ।

सुशील सरना / 30-11-23

178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
Rj Anand Prajapati
जिंदगी गुज़र जाती हैं
जिंदगी गुज़र जाती हैं
Neeraj Agarwal
■ बड़ा सवाल ■
■ बड़ा सवाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
*जाड़े की भोर*
*जाड़े की भोर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
*बेचारे नेता*
*बेचारे नेता*
दुष्यन्त 'बाबा'
*ऋषि नहीं वैज्ञानिक*
*ऋषि नहीं वैज्ञानिक*
Poonam Matia
स्कूल कॉलेज
स्कूल कॉलेज
RAKESH RAKESH
3307.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3307.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जीवन ज्योति
जीवन ज्योति
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हाथ की उंगली😭
हाथ की उंगली😭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
Ranjeet kumar patre
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
Neelam Sharma
जिया ना जाए तेरे बिन
जिया ना जाए तेरे बिन
Basant Bhagawan Roy
"आखिर"
Dr. Kishan tandon kranti
*प्रकृति का नव-वर्ष 【घनाक्षरी】*
*प्रकृति का नव-वर्ष 【घनाक्षरी】*
Ravi Prakash
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
शाबाश चंद्रयान-३
शाबाश चंद्रयान-३
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Loading...