Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2023 · 1 min read

कुंडलिया छंद

पूरा उसको कीजिए, काम लिया जो हाथ।
पता नहीं कल काल ये ,कितना देगा साथ।
कितना देगा साथ ,कौन ये रब ही जाने।
क्या स्थिति हो उत्पन्न,रार जो हर-पल ठाने।
कल पर छोड़ा काम , हमेशा रहे अधूरा।
जिसको करते आज ,वही होता है पूरा।।1

सूना- सूना सा लगे ,जग का कारोबार।
सूरत उसकी देख जब ,मैं बैठा दिल हार।
मैं बैठा दिल हार,नशीली चितवन चंचल।
गई हृदय को वेध ,रुलाती रहती हर-पल।
चली गई मुँह फेर,किया दुख उसने दूना।
हुआ कठिन निर्वाह,लगे मन – मंदिर सूना।।2
डाॅ बिपिन पाण्डेय

1 Like · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
Harminder Kaur
आजा रे आजा घनश्याम तू आजा
आजा रे आजा घनश्याम तू आजा
gurudeenverma198
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सच्चाई की कीमत
सच्चाई की कीमत
Dr Parveen Thakur
मुक्तक - जिन्दगी
मुक्तक - जिन्दगी
sushil sarna
गले से लगा ले मुझे प्यार से
गले से लगा ले मुझे प्यार से
Basant Bhagawan Roy
2502.पूर्णिका
2502.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
Arvind trivedi
Raksha Bandhan
Raksha Bandhan
Sidhartha Mishra
होके रुकसत कहा जाओगे
होके रुकसत कहा जाओगे
Awneesh kumar
मां
मां
Dheerja Sharma
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
Rohit yadav
हमेशा तेरी याद में
हमेशा तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
बुढ़ापा हूँ मैं
बुढ़ापा हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
" दर्द "
Dr. Kishan tandon kranti
जीत कहां ऐसे मिलती है।
जीत कहां ऐसे मिलती है।
नेताम आर सी
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
शाम
शाम
Neeraj Agarwal
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
*प्रणय प्रभात*
Be happy with the little that you have, there are people wit
Be happy with the little that you have, there are people wit
पूर्वार्थ
హాస్య కవిత
హాస్య కవిత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
# कुछ देर तो ठहर जाओ
# कुछ देर तो ठहर जाओ
Koमल कुmari
बेटा बेटी है एक समान,
बेटा बेटी है एक समान,
Rituraj shivem verma
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
Anil chobisa
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
Buddha Prakash
.*यादों के पन्ने.......
.*यादों के पन्ने.......
Naushaba Suriya
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
Loading...