Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Apr 2023 · 1 min read

“कीचड़” में केवल

“कीचड़” में केवल
“कमल” ही नहीं खिलते।
“शूकर” भी पलते हैं।

👌प्रणय प्रभात👌

1 Like · 125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
'हक़' और हाकिम
'हक़' और हाकिम
आनन्द मिश्र
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
Harminder Kaur
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
*Author प्रणय प्रभात*
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
gurudeenverma198
वफादारी का ईनाम
वफादारी का ईनाम
Shekhar Chandra Mitra
मोहब्बत तो आज भी
मोहब्बत तो आज भी
हिमांशु Kulshrestha
फितरत इंसान की....
फितरत इंसान की....
Tarun Singh Pawar
"नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
माया और ब़ंम्ह
माया और ब़ंम्ह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हौसला
हौसला
Monika Verma
3326.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3326.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
साथी है अब वेदना,
साथी है अब वेदना,
sushil sarna
सियासत हो
सियासत हो
Vishal babu (vishu)
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कवि रमेशराज
तुझको मै अपना बनाना चाहती हूं
तुझको मै अपना बनाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
फूल
फूल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हर पल तलाशती रहती है नज़र,
हर पल तलाशती रहती है नज़र,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हे मेरे प्रिय मित्र
हे मेरे प्रिय मित्र
कृष्णकांत गुर्जर
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
عيشُ عشرت کے مکاں
عيشُ عشرت کے مکاں
अरशद रसूल बदायूंनी
मारी फूँकें तो गए , तन से सारे रोग(कुंडलिया)
मारी फूँकें तो गए , तन से सारे रोग(कुंडलिया)
Ravi Prakash
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
प्यार तो हम में और हमारे चारों ओर होना चाहिए।।
प्यार तो हम में और हमारे चारों ओर होना चाहिए।।
शेखर सिंह
"Always and Forever."
Manisha Manjari
चोट ना पहुँचे अधिक,  जो वाक़ि'आ हो
चोट ना पहुँचे अधिक, जो वाक़ि'आ हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
Ranjeet kumar patre
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
मूक संवेदना
मूक संवेदना
Buddha Prakash
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
Loading...