Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 2 min read

“किस बात का गुमान”

किस बात का गुमान करता है बन्दे,
पाकर गुमान ना कर, खोने का गम मत कर।
भूकम्प का एक झटका आता है,
पल भर में सब छीन जाता है।

जब समंदर को हुआ गुमान पानी पर,
कश्तियाँ उड़ान भरने लगी पानी पर।
जख्म सारे दिखाई दें, कब जरूरी है,
छोड़ते हैं संग भी निशान पानी पर।

दिए को भी गुमान था,कि रोशन जहाँ हमसे,
अँधेरा खाक कर दिया,फिर गुमान कैसे।
दिया खुद को ढूढता ,की मैं कहां हुँ,
तेल खत्म हो चुका था ,फिर गुमान कैसे।

धन दौलत पर न कर गुमान,
ये हाथ का मैल, एक दिन धुल जाएगा।
न कुछ लेकर आया था, ना कुछ लेकर जाएगा,
तेरा किया धरा यही पर सब कुछ रह जायेगा।

बचपन बीता जवानी बीती,
फिर तो बुढापा आएगा।
एक कोने में पड़ा रहेगा तू,
कोई ना तेरे पास आएगा।

कर दो कुछ कर्म,धर्म,
बाँट दो दोनों हाथों से पुण्य।
यही तेरे साथ चलेगा बन्दे,
बाकी यही सब कुछ रह जायेगा।

जिंदगी बहुत छोटी है, फिर गुमान कैसे,
कब ऊपर से बुलावा आ जाएगा।
हाथ पैर सब होते हुए भी,
चार के कंधे पर चढ़ कर जाएगा।

उड़ रहा हूं अपनी काबलियत पर,
ये पतंग को भी गुमान था।
उसको जमीन का धागा जोड़ा , क्या उसे ध्यान था,
आया हवा का एक झोंका वो बडा तूफान था।

तोड़ दिया उस बन्धन को ,
जिससे पतंग अनजान था ।
कुछ को गुमान है अमीरी पर,
कुछ को गुमान अपने लकीरों पर।
अहंकार रावण को भी था,
ना कर गुमान तकदीरों पर।।

लेखिका: – एकता श्रीवास्तव ✍️
प्रयागराज

69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
Dr fauzia Naseem shad
"सत्संग"
Dr. Kishan tandon kranti
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नारी भाव
नारी भाव
Dr. Vaishali Verma
लोकतंत्र बस चीख रहा है
लोकतंत्र बस चीख रहा है
अनिल कुमार निश्छल
शाम के ढलते
शाम के ढलते
manjula chauhan
" जुदाई "
Aarti sirsat
सुप्रभात गीत
सुप्रभात गीत
Ravi Ghayal
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
అతి బలవంత హనుమంత
అతి బలవంత హనుమంత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
नसीब
नसीब
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपना जीवन पराया जीवन
अपना जीवन पराया जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
परेशानियों से न घबराना
परेशानियों से न घबराना
Vandna Thakur
अहा! जीवन
अहा! जीवन
Punam Pande
हादसे
हादसे
Shyam Sundar Subramanian
बस तुम
बस तुम
Rashmi Ranjan
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
Ranjeet kumar patre
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
2821. *पूर्णिका*
2821. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
सब्र का फल
सब्र का फल
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
एक उम्र
एक उम्र
Rajeev Dutta
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
ससुराल का परिचय
ससुराल का परिचय
Seema gupta,Alwar
दोहावली ओम की
दोहावली ओम की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बाप की गरीब हर लड़की झेल लेती है लेकिन
बाप की गरीब हर लड़की झेल लेती है लेकिन
शेखर सिंह
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
Er. Sanjay Shrivastava
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
Loading...