Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

किस-किस को समझाओगे

किस-किस को समझाओगे
और क्या-क्या समझाओगे
सीधी-सादी बात समझते नहीं
तो मन की क्या समझाओगे
शिव प्रताप लोधी

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from शिव प्रताप लोधी
View all
You may also like:
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महिला दिवस
महिला दिवस
Dr.Pratibha Prakash
मेरे राम तेरे राम
मेरे राम तेरे राम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
Ritu Asooja
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
Aryan Raj
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
Rituraj shivem verma
जो होता है सही  होता  है
जो होता है सही होता है
Anil Mishra Prahari
.......,,,
.......,,,
शेखर सिंह
मातु भवानी
मातु भवानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
जीनते भी होती है
जीनते भी होती है
SHAMA PARVEEN
कल कई मित्रों ने बताया कि कल चंद्रयान के समाचार से आंखों से
कल कई मित्रों ने बताया कि कल चंद्रयान के समाचार से आंखों से
Sanjay ' शून्य'
*कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)*
*कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
काव्य का राज़
काव्य का राज़
Mangilal 713
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
"पते पर"
Dr. Kishan tandon kranti
भोला-भाला गुड्डा
भोला-भाला गुड्डा
Kanchan Khanna
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
मुझे फर्क पड़ता है।
मुझे फर्क पड़ता है।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
चन्दा लिए हुए नहीं,
चन्दा लिए हुए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2386.पूर्णिका
2386.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
रेशम की डोर राखी....
रेशम की डोर राखी....
राहुल रायकवार जज़्बाती
जिंदगी का सवेरा
जिंदगी का सवेरा
Dr. Man Mohan Krishna
ज़मीर
ज़मीर
Shyam Sundar Subramanian
लाइब्रेरी की दीवारों में, सपनों का जुनून
लाइब्रेरी की दीवारों में, सपनों का जुनून
पूर्वार्थ
चन्द्रमा
चन्द्रमा
Dinesh Kumar Gangwar
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
Loading...