Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2022 · 1 min read

किस किस को वोट दूं।

“किस किस को वोट दूं।”

आया दौर चुनावों का, खड़े हुए उम्मीदवार।
कोई है, पढ़ा लिखा तो, कोई अनपढ़ गंवार।
कोई पिलाता दारू,
कोई जाता द्वार द्वार।
पता नहीं कौन हारे, किसका हो सपना साकार।
किसी ने बांटे नुक्ती लड्डू,
किसी ने बांटे रसगुल्ले।
किसी ने कुछ न बांटा, सुनाये खूब हंसगुल्ले।
इलेक्शन आए प्रधानी के,
शराबियों की आ गई मौज।
जो ना पीता बूझ नहीं, पीने वाले को पिलाते रोज।
छोटा सा एक गांव है,
कई हैं, उम्मीदवार।
किसको दूं मैं वोट, किसको दूं में चोट।
कोई पैरों में पड़ता,
कोई हाथों को मलता।
कोई छोटे को सलाम करें,
कोई रुपयों की बरसात करें।
चापलूसी करें, चरणों पड़े,
एक माह तक सब कुछ करें।
पड़ोसी भी कम नहीं,
एक दूसरे के कान भरें।
ऐसा भी अब क्या करें, वोट के लिए हां करें।
जीत जाए गर कोई इनमें,
पीछे पांच साल फिरे।
दूं भी तो किसे दूं वोट,
किस किस की खोट करूं।
किस-किस के नोट धरूं,
किस-किस से ओट करूं।
किसने क्या बांटा, क्या किया?
किस किसको नोट करूं।
दुष्यन्त कुमार अपनी इस कृति को,
कितना और शार्ट करूं।

Language: Hindi
9 Likes · 2 Comments · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
घाव
घाव
अखिलेश 'अखिल'
सियासत में आकर।
सियासत में आकर।
Taj Mohammad
*भारत नेपाल सम्बन्ध*
*भारत नेपाल सम्बन्ध*
Dushyant Kumar
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
Sanjay ' शून्य'
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
रक्तदान
रक्तदान
Neeraj Agarwal
दो नयनों की रार का,
दो नयनों की रार का,
sushil sarna
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
Bidyadhar Mantry
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
कवि दीपक बवेजा
सत्य से सबका परिचय कराएं, आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं, आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वक्त
वक्त
Dinesh Kumar Gangwar
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
Lokesh Sharma
तू ठहर चांद हम आते हैं
तू ठहर चांद हम आते हैं
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
2441.पूर्णिका
2441.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नींव_ही_कमजोर_पड़_रही_है_गृहस्थी_की___
नींव_ही_कमजोर_पड़_रही_है_गृहस्थी_की___
पूर्वार्थ
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"प्यार के दीप" गजल-संग्रह और उसके रचयिता ओंकार सिंह ओंकार
Ravi Prakash
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
*प्रणय प्रभात*
साथ मेरे था
साथ मेरे था
Dr fauzia Naseem shad
कैसी है ये जिंदगी
कैसी है ये जिंदगी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कविता
कविता
Shweta Soni
Loading...