Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2022 · 1 min read

किस क़दर।

तुझको तावीज़ बना कर मैं गले में पहनता हूं।
देख ज़रा किस क़दर मैं तुझसे इश्क करता हूं।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
3 Likes · 4 Comments · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन तब विराम पाता है
जीवन तब विराम पाता है
Dr fauzia Naseem shad
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
Manisha Manjari
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
23/192. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/192. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
बाल कहानी- चतुर और स्वार्थी लोमड़ी
बाल कहानी- चतुर और स्वार्थी लोमड़ी
SHAMA PARVEEN
बारिश के लिए
बारिश के लिए
Srishty Bansal
कहमुकरी: एक दृष्टि
कहमुकरी: एक दृष्टि
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आपाधापी व्यस्त बहुत हैं दफ़्तर  में  व्यापार में ।
आपाधापी व्यस्त बहुत हैं दफ़्तर में व्यापार में ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ख्वाब सुलग रहें है... जल जाएंगे इक रोज
ख्वाब सुलग रहें है... जल जाएंगे इक रोज
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#शर्मनाक
#शर्मनाक
*Author प्रणय प्रभात*
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
उनको देखा तो हुआ,
उनको देखा तो हुआ,
sushil sarna
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
श्याम-राधा घनाक्षरी
श्याम-राधा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
कल्पना ही कविता का सृजन है...
कल्पना ही कविता का सृजन है...
'अशांत' शेखर
जिस समय से हमारा मन,
जिस समय से हमारा मन,
नेताम आर सी
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
विचारमंच भाग -2
विचारमंच भाग -2
डॉ० रोहित कौशिक
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
Dushyant Kumar Patel
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
शिवोहं
शिवोहं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" बस तुम्हें ही सोचूँ "
Pushpraj Anant
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अधूरी ख्वाहिशें
अधूरी ख्वाहिशें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
Loading...