Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा

किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
मैं मर गया किसी पे मरकर

तबाह कर ली जिंदगी मैंने
एक हसीना के इश्क़ में पढ़कर

चाहत एकतरफा रही मेरी
वो गुजरते थे मुझसे बचकर

मैं देखा करता जाते हुए उसे
कभी वो भी देखेगी पलट कर

किस्मत चमक गयी एक दिन
उसने भी देखा मुझको हंसकर

©ठाकुर प्रतापसिंह राणाजी
सनावद (मध्यप्रदेश)

Language: Hindi
476 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
तुमसे मैं प्यार करता हूँ
तुमसे मैं प्यार करता हूँ
gurudeenverma198
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
Ram Krishan Rastogi
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
नारी
नारी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
प्रीतम श्रावस्तवी
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
Hallucination Of This Night
Hallucination Of This Night
Manisha Manjari
"बेचारा किसान"
Dharmjay singh
माँ भारती की पुकार
माँ भारती की पुकार
लक्ष्मी सिंह
मै अकेला न था राह था साथ मे
मै अकेला न था राह था साथ मे
Vindhya Prakash Mishra
मेरी माँ
मेरी माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
चाँद को चोर देखता है
चाँद को चोर देखता है
Rituraj shivem verma
मेरे जब से सवाल कम हैं
मेरे जब से सवाल कम हैं
Dr. Mohit Gupta
"जलाओ दीप घंटा भी बजाओ याद पर रखना
आर.एस. 'प्रीतम'
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
सत्य कुमार प्रेमी
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*भादो श्री कृष्णाष्टमी ,उदय कृष्ण अवतार (कुंडलिया)*
*भादो श्री कृष्णाष्टमी ,उदय कृष्ण अवतार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
शेखर सिंह
"पड़ाव"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
इन दिनों शहर में इक अजब सा माहौल है,
इन दिनों शहर में इक अजब सा माहौल है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2629.पूर्णिका
2629.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...