Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2017 · 3 min read

किस्सा–चन्द्रहास अनुक्रम–23

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की***
***जय हो श्री नंदलाल जी की***

किस्सा–चन्द्रहास

अनुक्रम–23

वार्ता–सखी सहेलियां और नगरी की औरतें शादी के गीत गाती हैं। पूरे वातावरण में शहनाई की गूँज छा जाती है।

टेक-बनड़ी प्यारी हे प्यारा छैल बनड़ा।

१-माता जी की प्यारी दुलारी म्हारी बनड़ी,
पिता जी का प्यारा दुलारा छैल बनड़ा।

२-गंगाजल की झारी दुलारी म्हारी बनड़ी,
समुद्र की धारा हे प्यारा छैल बनड़ा।

३-फूल चमेली प्यारी दुलारी म्हारी बनड़ी,
कमल हजारा प्यारा दुलारा छैल बनड़ा,

दौड़–

करकैं प्रीत गावैं थी गीत,कुल की रीत को रही बढ़ा,
तेल उबटणा ल्याई आई,नायण और बांदी लई बुला,
चंद्रहास कै धोरै पहुंची जा करकैं न कह सुणा,

जा बैठ पाटड़ै इब तेरै हाम तेल चढ़ावांगी,
तूं जीजा हाम साळी सां तेरे लाड लडावांगी,

ब्याह मुकलावा टेम इसी हो सै रंग छटणे की,
आओ सखी मंगळ गाओ ना लाओ टेम उबटणे की,
ज्यान तलक ना नटणे की मांगै सो ल्यावांगी,

हाथ कांगणा पैर राखड़ी सिर मोड़ बंधा लिए,
फटका और कटारी ले विषिया नै ब्याह लिए,
थापां आगै चालिए उड़ै छन कुहावांगी,

तूं जीजा हाम साळी प्रेम कर म्हारे साथ मैं,
हँस हँस के नै बतळावां रस आवै बात मैं,
तेल उबटणा मळैं गात मैं फेर नुहावांगी,

ना माँ कर सकै इसी सासु स्यार करै,
छोटी साळी मतवाळी जीजे तैं प्यार करै,
श्री बेगराज प्रचार करै तनै चाल सुणावांगी।

नुंवाह धुवा कै चंद्रहास को एकदम दिया त्यार बणा,
चंद्रहास नैं कहण लगी थी सारी सखी सुणा सुणा,
फेरां उपर आ जाईये,चाव करकैं नैं लेवां बुला,

चंद्रहास तो छोड़ दिया फेर विषियां धोरै आई,
विषिया धोरै आ करकैं सारी बात बताई,
नुवाह धुवा कैं त्यार करी फेर विषिया बान बिठाई,
सखी सहेली कहण लागी तेरी होगी मन की चाही,
वेदी पर बैठे ब्राह्मण पास खड़या था नाई,

नौ ग्रह पूजन करवा कैं सप्तमातृका दई पूजा,
स्वर्ण की मूर्ती गडवा कैं सोने के दिए तार पूगा,
ब्राह्मण मंत्र बोलण लागे सुधा स्वाह कहैं स्वाह सुधा,

मदन कंवर को कहण लगे थे अपणे धोरै लिया बुला,
जितणा नामा लाणा हो तूं हँस हँस कैं दिए लगा,
ऐसा मौका फेर मिलै ना तेरी भाण का हो सै ब्याह,

ब्याह तो हो सै बन्ना बन्नी का लोग मजे लूटैं सैं,
पुष्प पतासे पड़ैं अधर तैं पायां तळै फूटैं सैं,
इतणे काम होयां पाछै तो कैदी भी छुटैं सैं,

परमेश्वर की कृपा तैं यो दिन आग्या सोळा,
उतर की तरफ धरे सुमेरु तप करता जहाँ भोळा,
कई किस्म की वेदी था रंग काळा पिळा धोळा,
पिस्ता दाख बदाम और मंगा लिया था गोळा,
दस आवैं दस चाले जां दस बठैं उठैं सैं,

आधी रात शिखर तैं ढळगी सारा कुणबा जागै,
कन्यादान होण लागै जब काैण दान तैं भागै,
पीछै पीछै बंनड़ी होगी वो बंनड़ा आगै आगै,
ओछी बनड़ी लाम्बा बंनड़ा सिर मांडे कै लागै,
पायां मैं पायल बाजैं जणु तारे से टूटैं सैं,

मारण खातर बुलवाया वो मन्त्री अन्यायी देखो,
कोण मार सकै जिसकी राम करै सहाई देखो,
चंद्रहास मन्त्री का बण गया था जमाई देखो,

दगा किसे का सगा नहीं जो कोय दगा कमावैगा,
जो काटैगा बेल और की खुद अपणी कटवावैगा,
साईं की दरगाह कै अन्दर बदल्या कहीं नहीं जावैगा,
जो कोय खाई खोदैगा तो उसनै झेरा पावैगा,

धोखे का बिछाया जाळ दुष्ट करता चाळा देखो,
कौन मार सकता जिसका राम रुखाळा देखो,
गंडे तैं गंडिरी मिट्ठी गुड़ तें मिट्ठा राळा देखो,
भाई तैं भतीजा प्यारा सबतैं प्यारा साळा देखो,
कहते कुंदनलाल रट परमेश्वर की माळा देखो।

४-तेराह साल प्यारी दुलारी म्हारी बनड़ी,
नंदलाल अठारा दुलारा छैल बनड़ा।

कवि: श्री नंदलाल शर्मा जी
टाइपकर्ता: दीपक शर्मा
मार्गदर्शन कर्ता: गुरु जी श्री श्यामसुंदर शर्मा (पहाड़ी)

Language: Hindi
1 Like · 728 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दादी माॅ॑ बहुत याद आई
दादी माॅ॑ बहुत याद आई
VINOD CHAUHAN
"बन्धन"
Dr. Kishan tandon kranti
16. आग
16. आग
Rajeev Dutta
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
मजदूर हूँ साहेब
मजदूर हूँ साहेब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
गल्प इन किश एण्ड मिश
गल्प इन किश एण्ड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कितना लिखता जाऊँ ?
कितना लिखता जाऊँ ?
The_dk_poetry
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
नादान प्रेम
नादान प्रेम
अनिल "आदर्श"
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
*वक्त की दहलीज*
*वक्त की दहलीज*
Harminder Kaur
बह्र -212 212 212 212 अरकान-फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन काफ़िया - आना रदीफ़ - पड़ा
बह्र -212 212 212 212 अरकान-फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन काफ़िया - आना रदीफ़ - पड़ा
Neelam Sharma
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
माँ
माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रीति की राह पर बढ़ चले जो कदम।
प्रीति की राह पर बढ़ चले जो कदम।
surenderpal vaidya
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
shabina. Naaz
जो सुनना चाहता है
जो सुनना चाहता है
Yogendra Chaturwedi
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मातृभाषा
मातृभाषा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ जितनी जल्दी समझ लो उतना बढ़िया।
■ जितनी जल्दी समझ लो उतना बढ़िया।
*Author प्रणय प्रभात*
अदाकारी
अदाकारी
Suryakant Dwivedi
हटा 370 धारा
हटा 370 धारा
लक्ष्मी सिंह
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
gurudeenverma198
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...