Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 16, 2016 · 1 min read

किस्मत के दोहे

मेरी किस्मत ले चली,अब जाने किस ओर।
प्रभु हाथों में सौप दी,यह जीवन की डोर।।

किस्मत में है क्या लिखा,नहीँ किसी को भान।
निरर्थक हैं विधा सभी,थोथा है सब ज्ञान।।

भाग्य-भाग्य का खेल है,इससे जीता कौन।
किस्मत नाच नचा रही,देख रहे सब मौन।।

अर्चना सिंह?

2 Likes · 4 Comments · 3807 Views
You may also like:
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
#जातिबाद_बयाना
D.k Math
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
मां
Dr. Rajeev Jain
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मां शारदा
AMRESH KUMAR VERMA
Love song
श्याम सिंह बिष्ट
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
गीत -
Mahendra Narayan
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
भावों उर्मियाँ ( कुंडलिया संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...