Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2023 · 1 min read

किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच

किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अचानक बिछड़ना !
हम सोचते कुछ और हैं लेकिन हो कुछ और जाता है !
हमारे सोचने से ही अगर सब हो पाता तो शायद कभी कोई दुखी हो ही नही पाता !
क़िस्मत में क्या लिखा है ये वक्त ही बता पाता है तो स्वयं को कोसने से , क़िस्मत को दोष देने से हालात नही बदलने वाले !
हालात तो आपको स्वयं ही बदलना होगा और उसके लिए परिस्थिति स्वीकार्य कर जीवन की तमाम चुनौतियों का हर पल सामना करना ही पड़ेगा !!

242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आंखों में ख़्वाब है न कोई दास्ताँ है अब
आंखों में ख़्वाब है न कोई दास्ताँ है अब
Sarfaraz Ahmed Aasee
अलविदा
अलविदा
ruby kumari
आता एक बार फिर से तो
आता एक बार फिर से तो
Dr Manju Saini
गैर का होकर जिया
गैर का होकर जिया
Dr. Sunita Singh
मेरे भईया
मेरे भईया
Dr fauzia Naseem shad
वो तीर ए नजर दिल को लगी
वो तीर ए नजर दिल को लगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
I don't need any more blush when I have you cuz you're the c
I don't need any more blush when I have you cuz you're the c
Sukoon
आखिर क्यों
आखिर क्यों
DR ARUN KUMAR SHASTRI
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
हमने माना
हमने माना
SHAMA PARVEEN
हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
अरशद रसूल बदायूंनी
"तुलना"
Dr. Kishan tandon kranti
2766. *पूर्णिका*
2766. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
जुआं उन जोखिमों का कुंआ है जिसमे युधिष्ठिर अपना सर्वस्व हार
जुआं उन जोखिमों का कुंआ है जिसमे युधिष्ठिर अपना सर्वस्व हार
Rj Anand Prajapati
गोंडीयन विवाह रिवाज : लमझाना
गोंडीयन विवाह रिवाज : लमझाना
GOVIND UIKEY
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
Shweta Soni
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
VINOD CHAUHAN
कलमबाज
कलमबाज
Mangilal 713
बता तुम ही सांवरिया मेरे,
बता तुम ही सांवरिया मेरे,
Radha jha
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
Salman Surya
सम्बंध बराबर या फिर
सम्बंध बराबर या फिर
*प्रणय प्रभात*
बताती जा रही आंखें
बताती जा रही आंखें
surenderpal vaidya
Loading...