Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

किस्मत कब दे दे धोखा

तेरी हस्ती ही क्या है,
और क्या है तेरा वजूद
दिन निकलेगा तो घर से
बाहर निकलेगा जरूर !!

अपने पथ पर राही तुझ
को जाना तो रोजाना है जरूर
फिर काहे का करता घमंड
हो जाएगा यह चकनाचूर !!

पल भर कि खबर नहीं,
किस करवट जा बैठेगा ऊंट
अपने सांसो कि माला का
कर पगले ध्यान यह न जाना भूल !!

राह में अगर मिल जाये कोई
जो करे तुझ से कुछ फ़रियाद
मदद तो करना उस की जरूर
पर पहले करना अपने रब को याद !!

न जाने किस भेष में कोई
आकर करदे तुझ पर अत्याचार
यह जीवन कलियुग भरा है भईया
अब लोगो में नहीं रहा है प्यार !!

किस्मत का क्या हे, न हो जाये
राह चलते कभी कोई धोखा
“अजीत” समझा तो सभी को अपना है
पर पता नहीं कब कोई दे दे धोखा !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिनकी आंखों को धूप चुभे
जिनकी आंखों को धूप चुभे
*Author प्रणय प्रभात*
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
Shweta Soni
धोखा खाना क्या बुरा, धोखा खाना ठीक (कुंडलिया )
धोखा खाना क्या बुरा, धोखा खाना ठीक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
कवि रमेशराज
'Being human is not that easy..!' {awarded poem}
'Being human is not that easy..!' {awarded poem}
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चुनाव
चुनाव
Lakhan Yadav
हमने तो सोचा था कि
हमने तो सोचा था कि
gurudeenverma198
आदमी और मच्छर
आदमी और मच्छर
Kanchan Khanna
ज़हालत का दौर
ज़हालत का दौर
Shekhar Chandra Mitra
रिश्तों को साधने में बहुत टूटते रहे
रिश्तों को साधने में बहुत टूटते रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
3153.*पूर्णिका*
3153.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
अरमान
अरमान
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आंखों की भाषा के आगे
आंखों की भाषा के आगे
Ragini Kumari
अब गूंजेगे मोहब्बत के तराने
अब गूंजेगे मोहब्बत के तराने
Surinder blackpen
"किसान"
Slok maurya "umang"
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
** सुख और दुख **
** सुख और दुख **
Swami Ganganiya
"औषधि"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
बंशी बजाये मोहना
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
रात सुरमई ढूंढे तुझे
रात सुरमई ढूंढे तुझे
Rashmi Ratn
कसरत करते जाओ
कसरत करते जाओ
Harish Chandra Pande
अरदास
अरदास
Buddha Prakash
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
*अयोध्या के कण-कण में राम*
*अयोध्या के कण-कण में राम*
Vandna Thakur
Loading...