Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

एहसान

किसी पर एहसान कर उसे जताना आपका बड़प्पन नहीं बल्कि स्वयं को बड़ा दिखलाने की चाहत है।

Paras Nath Jha

426 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
Shekhar Chandra Mitra
शब्द वाणी
शब्द वाणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
Surinder blackpen
तंबाकू खाता रहा , जाने किस को कौन (कुंडलिया)
तंबाकू खाता रहा , जाने किस को कौन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
"सुन लो"
Dr. Kishan tandon kranti
'आलम-ए-वजूद
'आलम-ए-वजूद
Shyam Sundar Subramanian
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
Shweta Soni
कुण्डलिया-मणिपुर
कुण्डलिया-मणिपुर
दुष्यन्त 'बाबा'
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Winner
Winner
Paras Nath Jha
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
पूर्वार्थ
🙅पहचान🙅
🙅पहचान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
Anis Shah
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
भगवान कहाँ है तू?
भगवान कहाँ है तू?
Bodhisatva kastooriya
*ऐसी हो दिवाली*
*ऐसी हो दिवाली*
Dushyant Kumar
"आज का विचार"
Radhakishan R. Mundhra
याराना
याराना
Skanda Joshi
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
Vishal babu (vishu)
हुआ दमन से पार
हुआ दमन से पार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
Rj Anand Prajapati
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
हम आज भी
हम आज भी
Dr fauzia Naseem shad
बचपन की यादें
बचपन की यादें
Neeraj Agarwal
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
Loading...